Restaurant ka business कैसे शुरू करे ? | How to Start a Restaurant business? In Hindi

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है पियूष और आज के लेख में मई आपको कुछ जानकरी देने वाला हु की आप अपना Restaurant ka business कैसे शुरू करे ? (How to Start a Restaurant?) तो आप इस लेख को पुरे अंत तक जरूर पढ़े ।

आज लोगों की लाइफ स्टाइल बहुत बदल गई है। जितना लोग बाहर जाते हैं काम करते हैं उतना उनके लिए मुश्किल हो गया है।

घर पर तीनों टाइम का खाना बनाकर खा पाना। ऐसे में रेस्टोरेंट्स बहुत बड़ा रोल निभाता है । और जो लोग रेस्टोरेंट्स जैसे बिजनेस में इन्वेस्ट करने का सोच रहे हैं वो आगे चलकर बहुत प्रॉफिट में अपना बिजनेस बढ़ा भी सकते हैं।

अगर कई तरह के जोखिमों और कठिनाइयों पर ध्यान न दें तो रेस्टोरेंट का बिजनेस बहुत ही बढ़िया है । और अगर आप भी एक रेस्टोरेंट शुरू करने की सोच रहे हैं या अभी अपने पहले रेस्टोरेंट को शुरू करने की प्रक्रिया में हैं तो ये लेख आपके लिए ही है।

आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि आप कैसे एक रेस्टोरेंट खोल सकते हैं और किन किन बातों का आपको ध्यान रखना है।

अंत में हम कुछ स्टेप्स बताएंगे। अपने रेस्टोरेंट को पॉपुलर करने का तो बनी रही हमारे साथ अंत तक दोस्तों लेख शुरू करने से पहले हम आप सबका स्वागत करते है।

सबसे पहले जानते हैं कि भारत में रेस्टोरेंट्स का क्या फ्यूचर है। भारतीय रेस्टोरेंट्स बाजार दुनिया में सबसे तेजी से विकसित होने वाला बाजार है।

नेशनल रेस्टोरेंट एसोसिएशन आफ इंडिया N R A I की रिपोर्ट के अनुसार भारत के रेस्टोरेंट 2022 से 23 तक पांच दश्मलव 99 लाख करोड़ की ग्रोथ अचीव कर लेंगे ।

तो चलिए जानेंगे कि भारत में आप रेस्टोरेंट्स कैसे शुरू कर सकते हैं।

1 . अपने रेस्टोरेंट का कॉन्सेप्ट क्लियर करें । Clear the concept of your restaurant 

रेस्टोरेंट शुरु करने से पहले आपको पूरी तरह विचार कर लेना है कि इससे आप कितने प्रॉफिट की उम्मीद कर रहे हैं।

आपको इस पर विचार करते समय कई बातों को ध्यान में रखने की है जैसे आपके पास कितनी पूंजी है जिसे आप निवेश करना चाहते हैं। एक ग्राहक से आपको कितना रिटर्न आ सकता है।

एक बार जब आप ये सब सोच लेंगे और फैसला कर लेंगे की आपको रेस्टोरेंट खोलना है । तो आपको अपने रेस्टोरेंट की थीम और बाकी चीजों पर विचार करना होगा।

अगला आपको अपने रेस्टोरेंट के लिए एक बिजनेस प्लान तैयार करना होगा जिसकी चर्चा हम आगे करेंगे क्योंकि यही आपको रेस्टोरेंट बिजनेस को फ्यूचर में प्रॉफिट दिलाने में मदद करेगा।

2 . अपने रेस्टोरेंट बिजनेस के इनवेस्टमेंट के लिए फंड इकट्ठा करें। Raise funds to invest in your restaurant business.

ज्यादातर लोग रेस्टोरेंट के सपने को धन की कमी के कारण पूरा नहीं कर पाते और जब आप एक रेस्टोरेंट बिजनेस खोलने के बारे में सोचते हैं तो ये सबसे इम्पोर्टेंट चीजों में से एक है।

सबसे पहले अपने रेस्टोरेंट के कॉन्सेप्ट को क्लियर करें और देखें कि कितना बजट लगेगा। अपने मन का  रेस्टोरेंट खोलने में जवाब तो क्लियर होगा कि आपको कितने रुपयों की जरूरत है ।

तो आप तीन तरीकों से इस पूंजी का इंतजाम कर सकते हैं ताकि आप अपने सपनों रेस्टोरेंट को खोल सकें। बेस्ट है

1 . सेल्फ फंडिंग। Self – Funding

अगर आपके पास बैंक में पर्याप्त पैसा है तो बधाई हो। आपने एक रेस्टोरेंट खोलने की पहली बाधा पार कर ली है।

साझेदारी में रेस्टोरेंट खोलना भी एक अच्छा विचार है क्योंकि निवेश के जोखिमों को कम करता है। कोशिश करें कि आपके पास अपना पैसा ज्यादा से ज्यादा हो ताकि इंट्रेस्ट पर कम से कम रुपए लेने पड़े और सारा प्रॉफिट आपका अपना हो।

अगर आपके पास कुछ रुपए कम है तो सेकंड ऑप्शन के रूप में आप लोन ले सकते हैं और आप चाहे तो फंड भी इकट्ठा कर सकते हैं। अपने जानने वालों से लेकिन इन दोनों ही तरीकों में सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि आपको इंटरेस्ट देना होगा या फिर एक फिक्स टाइम पर सारे रुपए उनके प्रॉफिट के साथ लौटाने होंगे।

2 .  सारे कॉस्ट को कैलकुलेट करें। Calculate all costs.

रेस्टोरेंट की कुल लागत को कैलकुलेट करना एक रेस्टोरेंट को ठीक तरीके से चलाने के लिए बहुत जरूरी हिस्सा है।

इसके सारे खर्चों को जब तक आप कैलकुलेट नहीं करेंगे तब तक आपको आगे होने वाले खर्चों का पता नहीं चल पाएगा जिससे बाद में रेस्टोरेंट चलाने में दिक्कत का सामना करना पड़ेगा।

जो कुछ कॉमन खर्चे हैं जो कि हर एसेट में होते हैं वो देख लेते हैं।

1 .  फूड कॉस्ट  Food Cost

फूड कॉस्ट एक डिश तैयार करने में इस्तेमाल होने वाली सभी कच्चे माल की लागत कहा जाता है।

आमतौर पर खाने की कीमत आपके मेनू मूल्य का लगभग 30 प्रतिशत होती हो आपको हर सामान का सस्ता और अच्छा विकल्प ढूंढना हो।

थोक में सामान लेने से मूल्य और भी कम लगता है और बचत होती है

2 .  लेबर कॉस्ट Labor Costs

लेबर कॉस्ट। एक दूसरा सबसे बड़ा खर्च है जो कि रेस्टोरेंट में लगता है। रेस्टोरेंट खोलते समय और इसे चलाने में आने वाले बड़े खर्चों में से ही एक है

3 .  ओवर हेड कॉस्ट overhead Costs

और हेड कॉस्ट अन्य खर्चे हैं जो पूरियां लेबर से संबंधित नहीं हैं। इसमें कई चीजें शामिल हैं जिनमें से एक है लाइसेंस रेस्टोरेंट लाइसेंस आपको रेस्टोरेंट का एक जरूरी खर्च है और इसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है।

लाइसेंस कई चीजों पर डिपेंड करता है जैसे आपका रेस्टोरेंट  किस एरिया में किस तरह का है वगैरह वगैरह। और दूसरा है मार्केटिंग।

आपको अपने रेस्टोरेंट की मार्केटिंग पर अपने पूरे प्रॉफिट का एक हिस्सा सर्च करना चाहिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग वहां आएं

इसके अलावा भी कुछ खर्चे होते हैं जैसे रेंट , किचन इक्विपमेंट्स आदि

4 . रेस्टोरेंट के लोकेशन डिसाइड करें। Decide the location of the restaurant.

रेस्टोरेंट का बिजनेस शुरू करने के लिए आपको ये सोचना होगा कि आप से लोकेशन पर अपना रेस्टोरेंट खोलना चाहते हैं।

आपकी लोकेशन ही डिसाइड करेगी कि आपके बिजनेस में आपको प्रॉफिट होगा या लॉस । अपने स्टेट का स्थान चुनते समय उस एरिया में और कितने रेस्टोरेंट थे इसकी जांच करना उनको कितना प्रॉफिट होता है।

मतलब रूस उनके रेस्टोरेंट में कितने लोग आते हैं इसकी जांच करना और प्रॉफिट कमाने के लिए किस तरह की स्टेटर्जी का वो लोग इस्तेमाल करते हैं इस पर भी नजर रखनी चाहिए।

यहां तक कि अगर आप उनके मेनू को देखते हैं तो आपको उस एरिये में क्या ज्यादा बिकता है और वह किस चीज की ज्यादा डिमांड है इसका भी पता चल जाएगा।

इसके साथ ही आपको रेस्टोरेंट का लोकेशन ऐसा होना चाहिए कि लोगों की नजरों में आसानी से आ सके।

सबसे बढ़िया होगा कि आप अपने रेस्टोरेंट बिल्कुल मैन रोड के सामने खोलें जहां से सबकी नजर उस पर पड़ सके।

रेस्टोरेंट खोलते वक्त आप जिस लोकेशन का चुनाव करते हैं । अक्सर वहां आसपास के तीन लोगों से आपको NOC भी लेनी पड़ती है। ऐसा छोटे शहरों में नहीं होता लेकिन कई जगह ये नियम हैं

5. रेस्टोरेंट खोलने से पहले हर तरह के लाइसेंस को बनवा लें।

आपको भारत में कोई भी रेस्टोरेंट बिजनेस चलाने के लिए सरकार से लाइसेंस प्राप्त करने की जरूरत होती है।

लाइसेंस प्राप्त करने की लागत आपके बिजनेस के साइज पर निर्भर करता है। अगर आप भी लोकेशन डिसाइड कर लिया है और आपकी बाकी सारी तैयारी हो गई है तो परमिट के लिए जल्द आवेदन करना उचित है ।

क्योंकि उन्हें अप्रूव होने में काफी समय लग जाता है। भारत में एक रेस्टोरेंट बिजनेस खोलने के लिए जिस जिस लाइसेंस की जरूरत होती है वो है ।

1 . नगर निगम से ट्रेड लाइसेंस

रेस्टोरेंट के आकार के आधार पर लागत 10 हजार रुपए से 1 लाख तक हो सकती है। हालांकि छोटे रेस्टोरेंट के लिए वास्तविक लाइसेंस शुल्क 5 हजार रुपए से लेकर 10 हजार तक है।

लाइसेंस एक फाइनेंशियल ईयर के लिए जारी की जाती है और हर साल मार्च में इसे रिन्यू कराना पड़ता है।

2 . FSSAI 

एक फूड बिजनेस को खोल के लिए भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण FSSAI लाइसेंस लेना जरूरी हो जाता है।

आपके बिजनेस का आकार टर्नओवर कपैसिटी लोकेशन आदि FSSAI लाइसेंस के लिए बताना पड़ता है। इन्ही सब के आधार पर लागत लगभग पांच हजार से 10 हजार रुपए होती है।

3 .  GST रजिस्ट्रेशन

रेस्टोरेन्ट को GST के तहत पंजीकरण करना और अपना GST आईडी नंबर लेना भी बहुत जरूरी होता है।

जितने स्टेट में आप कंटेस्टेंट्स होंगे या उसकी पहुंच होगी वहां वहां आपको अलग से जीएसटी रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

4 .  प्रोफेशनल टैक्स लाइसेंस

आपको किसी भी स्टाफ को रखने के लिए एक प्रोफेशनल टैक्स लाइसेंस की जरूरत होगी। 10 हजार रुपए से ज्यादा वाले जितने भी स्टाफ होंगे उन सभी को टैक्स स्लैब के अंदर आना होगा।

लिकर लाइसेंस शराब लाइसेंस लेना एक सबसे मुश्किल और महंगा काम है। शराब लाइसेंस के लिए जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी आवेदन करना अच्छा होगा क्योंकि इसे परमिट होने में बहुत समय लगता है।

5 .  बिजनेस रजिस्ट्रेशन

आपको अपने बिजनेस को एक पार्टनरशिप फर्म या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रूप में रजिस्टर करना होगा।

आपको एनुअल रिटर्न फाइल करने जैसे कई कामों करने की जरूरत पड़ेगी। आप चाहे तो अपने बिजनेस के अकाउंट्स को मैनेज करने के लिए एक सीए भी रख सकते हैं।

और भी लाइसेंस होते हैं जिसकी जरूरत होती है। रेस्टोरेंट खुलने से पहले जैसे फायर सेफ्टी सर्टिफिकेट पॉप्युलेशन कंट्रोल लाइसेंस ।

6 . अपने बिजनेस के लिए मैन पावर क्लिक करें।

भारत में रेस्टोरेंट बिजनेस चलाने के लिए एक सही टैलंट को काम पर रखना सबसे बड़ी चुनौती का काम है।

कई बार हम गलत लोगों को हायर कर लेते हैं जिसकी वजह से हमारे काम की वैल्यू दूसरों की नजरों में कम हो जाती है और बात जब रेस्टोरेंट ओपन करने की है ।

तो अगर आपने सहित स्टाफ को नहीं चुना तो आपको बहुत नुकसान उठाना पड़ सकता है। ज्यादातर लोग अपने सोर्स से या फैमिली और फ्रेंड्स के सजेशन से लोगों को काम पर रखते हैं ।

लेकिन क्यूंकि आप एक नया बिजनेस खोल रहे हैं या अपने पुराने बिजनेस को सुधार रहे हैं तो आप अखबार में ऐड दे सकते हैं या किसी एजेंसियों के माध्यम से लोगों को हायर कर सकते हैं l

या फिर आप बिना एक भी रुपए खर्च किए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर सकते हैं। आज हर इंसान सोशल मीडिया पर अलग अलग ग्रुप बने हुए हैं।

आप फेसबुक या लिंकडिन पर देख सकते हैं। एक रेस्टोरेंट में तीन तरह के स्टाफ की जरूरत होती है ।

1 . किचन स्टाफ जिसमें कुक्स फूड प्रिपरेशन स्टाफ सपोर्ट स्टाफ शामिल होते हैं।

2 .  सर्विस स्टाफ जिसमें वेटर शामिल होते हैं क्योंकि कस्टमर से डील करते हैं तो इनकी भाषा अच्छी होनी चाहिए।

3 . मैनेजमेंट स्टाफ जिसमें कैशियर स्टोर मैनेजर जैसे लोगों को शामिल किया जाता है कि एजुकेटेड होने के साथ साथ अनुभवी भी हो तो आप के लिए अच्छा होता है

अपने रेस्टोरेंट के लिए सही शेफ को काम पे रखना बेहद जरुरी है क्युकी आपका भोजन ही आपके ग्राहकों को आकर्षित करता है ।

अगर वही सही से नहीं बनेगा तो कस्टमर आना बंद हो जायेगा । खाना पकने के आलावा आपका शेफ आपके menu को भी डिज़ाइन करता है ।

दोस्तों आज के इस लेख में हमने आपको यह बताने की कोशिश की आप अपना Restaurant ka business कैसे शुरू करे ? इसके लिए हमने आपको बेहद फायदे मंद जानकारी दी है । 

तो हमें उम्मीद है की आपको हमारी जानकारी बहोत पसंद आई होगी । तो अगर आपके मन में भी Restaurant ka बिज़नेस शरू करने का विचार हो तो आप इसे फॉलो करा सकते है ।और आपके दोस्तों और रिस्तेदारो के साथ यह जानकारी शेयर कर सकते है । धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *