Mobile Phone Company कैसे शुरू करें? | How to Start an Own Mobile Phone Company? In Hindi

दोस्तों आज के इस लेख में हम आपको अपनी Mobile Phone Company Kaise Sharu Kare? इस टॉपिक पर जानकारी देने वाले है । तो आप भी अपनी Mobile Phone Company कैसे शुरू कर सकते है इसके लिए आप इस लेख को पुरे अंत तक जरूर पढे ।

जहां Apple और Samsung जैसी बड़ी बड़ी कंपनियां हैं । जो ऐडवर्टाइजमेंट पर अरबों खर्च करती है । वहां किसी भी नई मोबाइल कंपनी को खोलने के लिए कई बार सोचना पड़ सकता है।

लेकिन Xiaomi और Oneplus जैसी कंपनियों ने बता दिया कि नई कंपनी को मार्किट में लाना उतना भी मुश्किल काम नहीं है।

इन कंपनियों के मोबाइल पर उनकी आज मार्केट में धूम है। ये एक उदाहरण है जिसका अनुसरण किया जा सकता है । चाहे आप पहले से एक स्मार्टफोन कंपनी चला रही हो या शुरू करने की सोच रही हो।

ये लेख आप सभी के लिए है। आज के इस लेख में हम बात करेंगे कि कैसे आप स्मार्टली एक मोबाइल कंपनी खोल सकते हैं । और उसी सक्सेसफुल बना सकते हैं ।

तो बने रहिए हमारे साथ अंत और लेख शुरू करने से पहले हम आपका स्वागत करते है । तो चलिए शुरू करते हैं तो सबसे पहले जानते हैं कि मोबाइल कंपनी खड़ा करने के लिए क्या क्या करना होता है।

  • What to do to build a mobile company

हर चीज को देखने के दो तरीके होते हैं दोस्तों। पहला तो ये कि मोबाइल फोन कंपनी शुरु करना कोई आसान काम नहीं है।

इसके लिए आपको सरकारी फर्म से मंजूरी लेनी होगी। फैक्ट्री और ऑफिस स्टैबलिश करना होगा। फिर आपको इसके लिए प्रोडक्शन कंपोनेंट्स और इलेक्ट्रॉनिक इक्विपमेंट्स खरीदने होंगे।

लेकिन वहीं अलग अलग तरीके से देखें तो ये उतना भी मुश्किल काम नहीं है । क्योंकि कई सारी प्राइवेट कंपनियां हैं जो सॉफ्टवेर कंपनी के साथ इलेक्ट्रिक और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का बिजनेस करती हैं ।

और नए एंटरप्रिन्योर को हेल्प करती हैं। इसके साथ ही ऐप्स के लिए मदद मिल जाती है। आपको बस पैसे मशीन मैन पावर और मैन्युफैक्चरर्स के साथ साथ पर्याप्त इनवेस्टमेंट टाइम और जगह की जरूरत है

Micromax , lava और Karbonn कंपनियां नई नई कंपनियों के लिए एक उदाहरण है।

  • What are the things you need to keep in mind to start a telephone company

तो चलिए अब जानते हैं कि स्मार्टफोन कंपनी शुरू करने के लिए आपको किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ।

1 . Create products for technology lovers ( टेक्नॉलजी लवर्स के लिए प्रॉडक्ट बनाएं )

एक सक्सेसफुल स्मार्टफोन कंपनी खड़ी करने के लिए आपका प्रॉडक्ट बहुत बढ़िया होना चाहिए। आपको अपने कॉम्पिटिटर कंपनी को देखना है ।

और उसके प्रॉडक्ट्स को एनालाइज करके अपने प्रॉडक्ट के फीचर्स को डिवेलप करना है। जब तक आप अपने ग्राहक को अच्छा आप्शन नहीं देते वो क्यों आपका फोन खरीदेंगे।

उसमें ऐसे फीचर्स होने चाहिए जो कस्टमर को अपनी ओर अट्रैक्ट करें जैसे Xiaomi कंपनी के Phones ने किया जो कि आज इंडियन मार्केट में अपना खास और बड़ा स्थान रखती है।

Oneplus ने जो भी फोन निकाले वो बड़े बड़े ब्रांड्स को कड़ी टक्कर देता है। इसके डिजाइन ने लोगों को अपनी ओर अट्रैक्ट किया और अच्छे फीचर्स के कारण फोन मार्केट में बड़े और महंगे ब्रांड का एक अच्छा विकल्प बनकर खड़ा है।

Xiaomi और Oneplus ने टेक्नॉलजी लवर्स को अपनी ओर खींचा और आज बड़े ब्रैंड्स के रूप में हमारे सामने खड़ा है। इससे आप उदाहरण ले सकते हैं कि आप किस तरह के फीचर्स और डिजाइन पर ध्यान देना है ।

जो कि ज्यादातर लोगों को आपके प्रॉडक्ट को खरीदने के लिए मजबूर करेगा। एक अच्छा आप्शन बनने के लिए यह बहुत जरूरी है ।

 2 . Look for a cheaper option to sell your product (अपने प्रॉडक्ट को बेचने का सस्ता विकल्प ढूंढें। )

Xiaomi और Oneplus जैसे ब्रांड्स ने थर्ड पार्टी डिस्ट्रिब्यूशन चैनल या महंगी रीटेल स्टोर के जरिए अपने मोबाइल्स को बेचने से मना कर दिया।

उन्हें पता था कि इस तरह से समय तो ज्यादा लगेगा ही साथ ही पैसा भी बहुत लग जाएगा। उन्होंने इसकी जगह खुद मार्केट मे एंट्री की और ईकॉमर्स के माध्यम से कस्टमर्स को सीधे अपने प्रॉडक्ट बेचा जिससे उनके काफी रुपये और समय बच गए जिससे उन्हें आगे के बाकी कामों में इस्तेमाल किया।

डायरेक्ट सेलिंग में एक नुकसान ये है कि इसमें सब चीजों को देख पाना मुश्किल होता है। Xiaomi और Oneplus ने अपने फोन को कम लागत पर और अच्छे फीचर्स के साथ बेच कर बड़े ब्रांड की कंपनियों से मुकाबला किया।

इस तरह थोड़े नुकसान के साथ ही सही लेकिन वो हर कस्टमर तक पहुंच सके जिसका नतीजा ये हुआ कि आज ये दोनों ही पॉप्युलर ब्रांड बन के मार्केट में खड़े हैं।

इस डायरेक्ट सेलिंग मेथड से फायदा ये है कि सेलर को कस्टमर के पास नहीं जाना पड़ता बल्कि कस्टमर खुद सेलर के पास आता है और प्रॉडक्ट खरीदता है।

अगर आप भी एक ब्रांड खरीदना चाहते हैं । तो गुड फीचर्स और ग्रेट डिजाइन के बाद आपको भी ईकॉमर्स का इस्तेमाल करना चाहिए।

डायरेक्ट लोगों तक पहुँचने के लिए इससे आपके रुपए तो बचेंगे ही साथ ही साथ आप एक ही समय पर लाखों बायर्स की नजरों में आ सकेंगे।

3 . Remove fewer products of the same model in the market (एक ही मॉडल के कम प्रॉडक्ट्स मार्केट में निकालें।)

एक ही मॉडल के कम प्रॉडक्ट्स मार्केट में निकालें। आप एक बार में कई सारे प्रॉडक्ट बना सकते हैं और बेच सकते हैं ।

लेकिन उससे आपके फोन की असली कीमत कम हो जाती है । क्योंकि एक तो पहले ही आपको बड़े ब्रांड से कम कीमत पर प्रॉडक्ट्स बेचने होते हैं ताकि आप अपने कस्टमर बना सकें और उसके बाद अगर आप एक ही मॉडल के अनलिमिटेड कॉल्स मार्किट में ले आते हैं ।

तो उससे आपकी वैल्यू भी कम हो जाती है। कस्टमर्स की एक साइकॉलजी होती है जिसके मुताबिक जिस चीज के फीचर्स अच्छे हैं लेकिन अगर वो मार्केट में कम है तो उसे खरीद लिया जाए।

इसी साइकॉलजी का इस्तेमाल ऐपल जैसे बड़े ब्रांड करते हैं। Apple ने आईफोन और आईपैड के साथ यही किया जिसकी वजह से आज मार्केट में एक बड़े और लोकप्रिय ब्रांड के रूप में ही मौजूद है।

शाओमी और वनप्लस के फोन मार्केट में आते ही आउट ऑफ स्टॉक हो जाते हैं। इसकी वजह यही साइकॉलजी है।

एक नयी या छोटी कंपनी होने की वजह से एक तो आपके पास सीमित साधन और रुपये है ऊपर से अगर एक ही मॉडल के कई सारे प्रोडक्ट आप मार्केट में उतार देते हैं और किसी वजह वो ज्यादा नहीं बिक पाते तो आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है इसीलिए उत्पादन को सीमित रखिए ।

4 . Increase demand and awareness. ( मांग और जागरूकता बढ़ाएं। )

मांग और जागरूकता बढ़ाएं। एक बड़े ब्रांड की मार्केट में जाने की स्ट्रेटेजी एक छोटी कंपनी के मुकाबले अलग होती है।

कोई कंपनी मार्केट में कितना लंबा परफॉर्म कर पाएगी ये डिपेंड करता है। उसकी Go-to-Market Starategy आज सोशल मीडिया एक ऐसा पावरफुल टूल है जिसकी मदद से आप एक ही बार में अपनी बात पूरी दुनिया तक पहुंचा सकते हैं ।

और अलग अलग ऐडवर्टाइजमेंट के लिए अलग अलग खर्च नहीं करना पड़ता है। शाओमी जैसे ब्रांड्स ने इस मार्केटिंग की ताकत का अच्छा इस्तेमाल किया है।

वे अपनी वेबसाइट सोशल मीडिया और प्रेस के माध्यम से घोषणा करते हैं कि अब कब वो नया मॉडल लॉन्च कर रहे हैं या कब नया फोन मार्केट में लाएंगे और कब पुराने मॉडल के स्टॉक आने वाले हैं मार्केट में इस तरह इस ब्रांड के फोन मार्केट में आते ही बिक जाते हैं।

स्टॉक मार्केटिंग पावर एक मजबूत कस्टमर रिलेशन बनाने में काम आता है। मार्केटिंग के मामले में वनप्लस तो शाओमी से भी आगे निकल गया। वन प्लस खरीदने के लिए आपको एक इंविटेशन प्राप्त करना होगा।

हर जगह इसे शेयर करना पड़ता है और भी बहुत कुछ करना पड़ता है । इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आपको किस किस तरह से नए नए आइडियाज निकालने होंगे।

अपने फोन को पॉप्युलर करने के लिए आप कॉन्टेस्ट भी करवा सकते हैं जिससे लोग उसमें पार्ट लेंगे फोन खरीदने के लिए और इससे आपका एडवर्टिजमेंट भी होता रहेगा।

5 . Sell profitable service and products (प्रॉफिटेबल सर्विस और प्रॉडक्ट्स को बेचे।)

प्रॉफिटेबल सर्विस और प्रॉडक्ट्स को बेचे। अगर आप बताए गए चारों स्टेप्स को फॉलो कर लेते हैं तो आप अपने फोन के लिए बड़ा मार्केट क्रिएट करने में सक्षम हो पाएंगे ।

और अब शुरू होता है अपने इस बिजनेस से प्रॉफिट कमाना क्योंकि आप जो भी बिजनेस कर रहे हों वो प्रॉफिट के लिए ही कर रहे हो। लेकिन पहले बताए गए चारों स्टेप्स आपको ज्यादा प्रॉफिट नहीं दिला पाएंगे।

ये बस आपके प्रॉडक्ट की मार्केटिंग और कस्टमर रीच को बढ़ा पाएंगी। तो अब आप प्रॉफिट कैसे कमाएं इसका असर है उन प्रॉडक्ट्स और सर्विस को बेचे जिससे पैसा बने।

जैसे शाओमी के लिए ज्यादा प्रॉफिट कमाने का जरिया है TMALL.COM  . TMALL.COM एक ईकॉमर्स साइट और अपने फोन के जरिये आनलाइन सर्विस देना जैसे थीम खरीदना वनप्लस अपने स्मार्टफोन्स के लिए 50 डॉलर में केस कवर बेचता है जो कि बहुत महंगा है लेकिन लोग उसे खरीदते हैं।

स्टेटस सिंबल के रूप में इसी टेक्नीक का इस्तेमाल रीटेल स्टोर्स करते हैं। वो हमेशा लोगों को अपने स्टोर की तरफ अट्रेक्ट करने के लिए लिमिटेड लो प्राइस चीजें बेचते हैं ।

ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग उनके स्टोर पर आएं। इसके बाद होता ये है कि उन कस्टमर्स को जब कभी बाद में भी कोई सामान खरीदना होता है तो वो उस स्टोर पर जाते हैं और तब स्टोर ज्यादा चार्ज करके अपना लॉस भी कवर कर लेते हैं ।

तो ये सारे ऑफर्स से आपको भी कोई तरीका सोचना है जिससे आप ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट कमा सकें। इसके अलावा आपको अदर ब्रांड्स के मोबाइल कंपनियों पर भी नजर रखनी है कि कब वो नया मॉडल लॉन्च कर रहे हैं।

उसी के आसपास आपको भी एक नया मॉडल लॉन्च करना है। क्यूंकि अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो कस्टमर्स को अट्रैक्ट करने की रेस में आप पिछड़ जाएंगे।

आपको बड़े बड़े बिजनेसमैन के इंटरव्यू को पढ़ना है। अक्सर वो लोग अपने इंटरव्यू में अपनी पिछली गलतियों और अपनी सक्सेस स्पीच की बात करते हैं जिनसे आपको आइडिया होगा कि किस तरह से बिजनेस खड़ा किया जा सकता है ।

और कौन कौन सी गलतियां करने से बचा जा सकता है।

तो दोस्तो हमें उम्मीद है कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हम पूरी कोशिश करते हैं कि आपको एक ही लेख में पूरी जानकारी दे सकें।

अगर आपको अपना मोबाइल बिजनेस शुरू करना है तो आप इन स्टेप्स को फॉलो करके ही आगे की गलतियों से बच सकते हैं।

इस लेख से संबंधित कोई और सवाल है और आप हमसे पूछना चाहते हैं तो हमें कॉमेंट करें। हम आपके सभी सवालों के जवाब देंगे और आगे भी इसी तरह के लेख पढने के लिए हमारे website पर आना न भूलें। धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *