खुद का Hospital भारत में कैसे शरू करे – अपना करिअर बनाये हिंदी में जानकारी

दोस्तों आज के टाइम में लोग बहोत सरे बिजनेस कर रहे है । और हर कोई अपना खुद का कोई न कोई छोटा या बड़ा बिजनेस करके पाने कमाई शरू करना चाहता है । आज हम आपको ऐसी ही एक बिजनेस के बारे में बताने वाले है की आप अपना  खुद का Hospital भारत में कैसे शरू करे – अपना करिअर बनाये  तो चलिए शरू करते है ।

Advertisement

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सबका मै हु आपका दोस्त पियूष और आज के इस लेख में आपको अपना खुद का Hospital कैसे शरू करे ? इस के बारे में बताने वाला हु और इसकी क्या प्रोसेस है चलिए जानते है |

How to Start Own Hospital || खुद का हॉस्पिटल कैसे शरू करे ? हिंदी में जानकारी

जीने के लिए जो जरूरी चीजें हैं उनकी अहमियत हमेशा बनी रहती है जैसे कि खाना , पढ़ाई , मेडिकल फैसिलिटी वगैरह। इसीलिए कोरोना के दौरान भी जब विस्तृत लोकडाउन लगा हुआ था तब ग्रोसरी , सब्जी की दुकान , टेडी सैंडर्स को डिलिवरी जैसी चीजें खुली थीं।

स्कूल कॉलेज बंद थे पर ऑनलाइन पढ़ाई हो रही थी और लोगों के इलाज के लिए मेडिकल सर्विसेस चौबीसों घंटे चालू थी। डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ काम कर रहे थे हॉस्पिटल और मेडिकल स्टोर्स खुले थे। अमीर हो या गरीब हर किसी को बीमारी से बचने के लिए इलाज के लिए हॉस्पिटल तो जाना ही पड़ता है तो बढ़ती डिमांड और एडवांस होती मेडिकल ट्रीटमेंट के चलते लोगों तक सारी सुविधाएं पहुंचाने के लिए अब ज्यादा से ज्यादा हॉस्पिटल और नर्सिंग होम्स खुल रहे हैं।

Advertisement

इनमें गर्वमेंट और प्राइवेट दोनों ही होते हैं और आज हम आपको बताएंगे कि प्राइवेट Hospital कैसे खोला जाता है

1 .Hospital के लिए लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन।

सबसे पहले जरूरी है लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन। एक Hospital स्टैब्लिश करने के लिए लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन चाहिए वो हैं रजिस्ट्रेशन क्लाइमेट इस्टैब्लिशमेंट ऐक्टिव 20217

सेंट्रल गवर्मेंट का बनाया हुआ ऐड जिसे देश के सभी राज्यों ने अपनाया हुआ है एक वनटाइम रजिस्ट्रेशन है जो Hospital चलाने के लिए जरूरी है और जिस भी राज्य में Hospital खोला जा रहा है वहां की स्टेट गवर्मेंट से ये रजिस्ट्रेशन लेनी पड़ती है। हॉस्पिटल जिस भी कैटिगरी में रजिस्टर होगा उसकी सभी जरूरतें पूरी करनी होती हैं।

दूसरा है रजिस्ट्रेशन और कंपनीज एक्ट 2013। इसकी जरूरत तब पड़ती है जब कोई कंपनियां कॉरपोरेशन Hospital बनाना चाहे कॉरपोरेट हाउस को तब मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन आर्टिकल एसोसिएशन कैपिटल स्ट्रक्चर कमिशन सिक्योरिटीज अलॉटमेंट एकाउंट ऑडिट जैसी चीजों के लिए कंपनीज एक्ट का रजिस्ट्रेशन जरूरी होता है। डायरेक्टर इंडेक्स नंबर की बात करे हॉस्पिटल या नर्सिंग होम को चलाने के लिए जितने डॉक्टर अप्वाइंट किए जाएंगे उनका अपना DIN यानी इंडेक्स नंबर चाहिए होता है जिसे मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स गवर्मेंट इंडिया से लेना होता है।

DIN लेना मेडिकली होता है अनिवार्य होता है और यह सिर्फ वन टाइम होता है।

इसके रजिस्ट्रेशन सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट 2001 न की बात करें तो अगर Hospital या मेडिकल इंस्टिट्यूट को किसी सोसाइटी की ओनरशिप में खोला जा रहा है तब सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट 2001 के अंडर रजिस्ट्रेशन लेना पड़ता है।

अगला है FSSAL लाइसेंस और ऑपरेटिंग अकिंचन यानी कि आमतौर पर लगभग सभी Hospital और नर्सिंग होम्स में किचन या कैंटीन की सुविधा रहती है ताकि इलाज के दौरान पेशंट को खाना दिया जा सके। इसके लिए फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया से परमिशन लेनी पड़ती है और अब आता है |

2 . Hospital के लिए फार्मेसी रजिस्ट्रेशन।

कई बार Hospital में ही आपको मेडिकल स्टोर्स दिख जाते हैं। इसके लिए फार्मेसी रजिस्ट्रेशन लगती है या फिर किसी थर्ड पार्टी वेंडर जिसके पास पॉलिसी का लाइसेंस होता है उनको हॉस्पिटल मैनेजमेंट अपने प्राइसेज में दवा की दुकान खोलने की परमिशन दे देता है।

इनके अलावा भी सर्टिफिकेशन रजिस्ट्रेशन और Hospital विथ म्युन्सिपल कॉरपोरेशन इंडियन मेडिकल काउंसिल ऐक्ट  2002 रजिस्ट्रेशन ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन , ऐम्बुलेंस रजिस्ट्रेशन हॉस्पिटल की सिक्योरिटी के लिए लाइसेंसिंग और आम अंडर आर्म्स ऐक्ट 1959 लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन ट्रांसपोर्टेशन ऑफ ह्यूमन ऑर्गन ऐक्ट 1994 में भी रजिस्टर करवाना पड़ता है और इसके साथ मेन Hospital की लोकेशन भी किसी भी हॉस्पिटल की लोकेशन ऐसी होनी चाहिए जहां से वो पब्लिक की पहुंच में हों या फिर किसी ऐसे टाउन या शहर में हों जहां से आसपास के एरिया के लिए भी वो ज्यादा दूर ना हो आबादी अच्छी हो।

ट्रांसपोर्ट फैसिलिटी रोड और रेल कनेक्टिविटी सही हो साथ ही लोगों की पानी की कंडिशन भी बेहतर हो क्योंकि प्राइवेट हॉस्पिटल्स या नर्सिंग होम्स के फ़ीस थोड़ी ज्यादा होती है। अगर हॉस्पिटल के लिए जमीन ली जा रही है तो ये देखना भी जरूरी होता है कि वो एग्रीकल्चर की जमीन है या नहीं।

वहां इलेक्ट्रिसिटी वॉटर सप्लाई अच्छी हो। साथ ही Hospital के पास अच्छी पार्किंग फैसिलिटी भी होनी चाहिए।

3 .Hospital के लिए फैसिलिटी सर्विसेज

अब बारी आती है फैसिलिटी सर्विसेज की। किसी भी Hospital में जब कोई अपना इलाज करवाने जाता है तो सबसे पहले ये देखता है कि वहां डॉक्टर स्पेशलाइज्ड मेडिकल फैसिलिटी क्या क्या है और उनका ट्रैक रिकॉर्ड कैसा है। मतलब वहां लोगों का इलाज कैसा है Hospital का इलाज कितना भरोसेमंद है वगैरह वगैरह।

उसी हिसाब से लोग वहां पर पहुंचते हैं। इसीलिए कोई नया Hospital खोलते समय ये सुनिश्चित करना जरूरी है कि आप लोगों को कितनी बेहतर सर्विस देने की कमिटमेंट कर रहे हैं। उसी हिसाब से आपको डॉक्टर्स , मेडिकल स्टाफ , नर्सिंग स्टाफ ओपीडी , एण्टी , जनरल वॉर्ड , मशीन्स ऑपरेशन फैसिलिटी X-RE , MRI , पैथोलॉजी सेंटर टेस्टिंग सेंटर्स वगैरह रखने पड़ेंगे।

अगर कोई स्पेशियलिटी के साथ आगे बढ़ रही है जिसे ऑन्कोलॉजी सेंटर तो आपके पास वो सारी सुविधा होनी चाहिए ताकि पेशेंट्स को कहीं और ना जाना पड़े। इसके अलावा भी लिफ्ट , ऐसी रूम  , वाटर इलेक्ट्रिसिटी , पावर बैकअप एम्बुलेंस सर्विस , मेडिकल स्टोर , ब्लड बैंक जैसी चीजें एक Hospital के स्टैंडर्ड को हाई रखती हैं और इनकी साफ सफाई भी बहुत जरूरी है। Hospital मैनेजमेंट को। ये भी ध्यान देना होता है कि डॉक्टर और स्टाफ मरीजों से अच्छा बर्ताव करें।

इससे रेपुटेशन अच्छी बनती है। इस तरीके से Hospital बनाने के साथ साथ उसकी मेंटेनेंस भी उतनी ही जरुरी है ताकि कोई भी दिक्कत ना हो। क्योंकि अक्सर सरकारी Hospital की खराब सर्विस के चलते ही लोग प्राइवेट सर्विस लेने पहुंचते हैं।

इसलिए लिफ्ट सही से चलती रहे। ऐम्बुलेंस की कमी ना पड़े , ब्लड की शॉर्टेज ना पड़े। मेडिकल इक्विपमेंट सही से काम करे। दवाइयां मौजूद रहे पावर कट ना हो। ऑक्सीजन सिलिंडर की कमी ना हो। हर डिपार्टमेंट में डॉक्टर्स मौजूद रहें। सिक्योरिटी अच्छी होने से ढ़ेर सारी चीजें की पाट्र्स होती है। मेंटिनेंस के बाद वे बात करते हैं।

4 .बायोमेडिकल वेस्ट कहा डिस्पोज करे 

बायोमेडिकल वेस्ट की इलाज के बाद निकले मेडिकल कचरे को बायोमेडिकल वेस्ट कहा जाता है। इनको सही से डिस्पोज करने के लिए आपके पास अच्छी सुविधा होनी चाहिए। इन्हीं सेफ्ली शहर से बाहर ले जाने के लिए या कचरा डंपिंग यार्ड तक पहुंचाने के लिए गाड़ी होनी चाहिए या फिर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन के सौदा कटाई हो ताकि नगर निगम की गाड़ी आए और उन्हें हर रोज़ ले जाए। क्यूंकि बायो मेडिकल वेस्ट से इन्फेक्शन और बीमारियां फैलने का रिस्क बहुत ज्यादा होता है।

5  . डिजिटल पेमेंट फैसिलिटी और कैशलेस की सुविधा।

अब बात करते हैं डिजिटल पेमेंट फैसिलिटी और कैशलेस की सुविधा। आजकल हर कहीं डिजिटल पेमेंट एक्सेप्ट होता है। इसलिए हॉस्पिटल्स में गूगल पे , पेटीएम या , डेबिट , क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने की सुविधा होनी चाहिए। चूंकि लोग इतना सारा कैश लेकर जेब में तो घूमेंगे नहीं। इसलिए अगर आपका Hospital कैशलेस फैसिलिटी दे रहा है तो ज्यादा लोग इलाज करवाने पहुंचेंगे क्योंकि जॉब करने वाले लोगों को उनकी कंपनी मेडिकल इंश्योरेंस देती है और साथ लोग पर्सनल मेडिकल इंश्योरेंस भी रखती हैं इसलिए खुद को कैशलेस फैसिलिटी सर्विस प्रोवाइडर की तरह रजिस्टर करवा लीजिए या मेडिकल इंश्योरेंस देने वाली कंपनी से टाईअप करवा लेना चाहिए।

6 . फायर सेफ्टी की एनओसी

अब बात करते हैं फायर सेफ्टी की एनओसी आग लगने जैसे इंसिडेंट्स कहीं भी हो सकते हैं। अक्सर ऐसी चीजें वहां पर होती हैं जहां पर इलेक्ट्रॉनिक इक्विपमेंट ज्यादा होते हैं और शॉर्ट सर्किट हो जाए तो आग लग जाती है। इसलिए बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन करवाते समय ही उसमें आग बुझाने वाला सिस्टम लगवा लेना चाहिए। अगर खर्चा कम करवाने की सोचकर के ऐसा नहीं करवाते हैं तो बाद में हो सकता है कि आप पर गवर्मेंट की तरफ से जुर्माना लगाया जाए या फिर कोई इंसीडेंट हो जाए तो हॉस्पिटल की इमेज खराब होगी और हो सकता है कि आपका Hospital सील कर दिया जाए।

साथ ही बिल्डिंग में जगह जगह फायर एक्सटिंग्विशर होना चाहिए ताकि आग पर काबू पाया जा सके। इसके अलावा हॉस्पिटल की बनावट ऐसी होनी चाहिए ताकि किसी भी एमरजेंसी सिचुएशन जैसे कि आग लगने बाढ़ आने या भूकंप होने पर अफरा तफरी ना मचे लोगों को आसानी से रेस्क्यू किया जा सके। तो इन सारी बातों के साथ हम और कुछ छोटी छोटी बातों पर ध्यान दें तो साइन बोर्ड्स बहुत ही इम्पॉर्टेंट है।

जब भी कोई मरीज या उसके रिलेटिव्स Hospital में पहुंचते हैं तो उनको हॉस्पिटल में आने जाने के लिए कोई दिक्कत ना हो। लोग कन्फ्यूज ना हो इसके लिए जगह के सही से साइन बोर्ड लगे होने चाहिए ताकि किसी से बिना पूछे भी लोग हॉस्पिटल में जरूरी जगह पर आ जा सकें। साथ ही एमरजेंसी नंबर्स , नो स्मोकिंग , साइलेंस प्लीज़ , साइलेंट मोबाइल कीवियों शूट आउट , ओपीडी पार्किंग लिफ्ट की ट्रेक्शन पैथोलॉजी लैब जैसे जितने भी डिपार्टमेंट्स होते हैं और प्राइसेज होते हैं उनकी सही डायरेक्शन होनी चाहिए।

यह भी पढ़े |

  • नर्सिंग होम का क्या मतलब होता है?

नर्सिंग होम एक निजी आवासीय स्वास्थ्य सेवा संस्था होती है जहाँ पर बहुत दिनों से बीमार चल रहे मरीज़ों की देखभाल के लिए या उन्हें लंबे समय तक रखने की व्यवस्था होती है। … नर्सिंग होम में सामान्यतः एक चिकित्सक द्वारा ही ओ पी डी की जाती है जबकि अन्य चिकित्सक नियमानुसार भर्ती मरीज़ों की देखभाल करते हैं।
  • क्लिनिक कितने प्रकार के होते हैं?

  • इतिहास
  • अस्पताल के विभाग 2.1 बहिरंग विभाग (OPD) 2.2 अंतरंग विभाग (IPD)
  • अस्पताल का निर्माण
  • विश्ष्टि अस्पताल
  • विश्राम विभाग
  • चिकित्सालय और समाजसेवक
  • भारत के प्रमुख अस्पताल
  • बाहरी कड़ियाँ
  • Hospital के कार्य क्या है?

अस्पताल एक स्वास्थ्य देखभाल है जो संस्थान प्रदान कर रहा है रोगी विशेष चिकित्सा के साथ उपचार और नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सा उपकरण। अस्पताल का सबसे प्रसिद्ध प्रकार सामान्य अस्पताल है, जिसमें आमतौर पर आग से होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं और दुर्घटना के शिकार लोगों की अचानक बीमारी का इलाज करने के लिए आपातकालीन विभाग होता है।
  • भारत में कुल कितने सरकारी अस्पताल है?

कई स्कूलों में सभी श्रेणियों की पढ़ाई की व्यवस्था एक ही बिल्डिंग में होती है। मार्च 2011 में सरकारी अस्पतालों की कुल संख्या देश में 11,933 थी। इन अस्पतालों में कुल 7.84 लाख मरीजों के लिए बिस्तर उपलब्ध थे।
  • भारत की सबसे बड़ी अस्पताल कौन सी है?

  • टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल, मुंबई (biggest hospital in india) …
  • इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल, नई दिल्ली (biggest hospital in india) …
  • fortis hospital (फोर्टिस हॉस्पिटल), नयी दिल्ली (biggest hospital in india) …
  • Apollo hospital (अपोलो हॉस्पिटल), चेन्नई
  • सरकारी अस्पताल कितने प्रकार के होते हैं?

  • इतिहास
  • अस्पताल के विभाग 2.1 बहिरंग विभाग (OPD) 2.2 अंतरंग विभाग (IPD)
  • अस्पताल का निर्माण
  • विश्ष्टि अस्पताल
  • विश्राम विभाग
  • चिकित्सालय और समाजसेवक
  • भारत के प्रमुख अस्पताल
  • विश्व का सबसे बड़ा अस्पताल कौन सा है?

अभी विश्व का सबसे बड़ा अस्पताल ताइवान का चांग गंग मेमोरियल हॉस्पीटल है। उसकी क्षमता 10 हजार बेड की है। पीएमसीएच में अभी कोविड वार्ड को मिलाकर लगभग 1800 बेड क्षमता है।
तो दोस्तों हमें उम्मीद है की आपको हमरे द्वारा दी गई खुद का Hospital भारत में कैसे शरू करे – अपना करिअर बनाये यह जानकरी बहोत पसंद आई होगी तो आप इस जानकरी को अपने दोस्तों या किसी भी सोशल मिडिया में शेयर कर सकते है ताकि लोगो को जानने के लिए मिले । और आपको यह जानकरी कैसी लगी आप हमें निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताये  । धन्यवाद ।
यह भी पढ़े ।
  1. T-Shart Printing बिज़नेस शरू कैसे करे और पैसा कैसे कमाए -पूरी जानकारी
  2. How to start Cold Drink Company | Cold Drink Company कैसे स्टार्ट करे ? हिंदी में जानकारी
  3. How Start a Call Center | Call Center कैसे शरू करे ? हिंदी में पूरी जानकारी

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *