Daily Lazy Routine को कैसे बदले ? How to Change Our Daily Lazy Routine in Hindi

हेलो दोस्तों आप सबको मेरा प्यार भरा नमस्कार मै हु आपका दोस्तों पियूष और आज में आपको इस आर्टिकल के माध्यम से आप Daily Lazy Routine को कैसे बदल सकते है ? 

Advertisement

तो दोस्तों आप इस आर्टिकल को पुरे ध्यान से जरूर पढ़े । 

क्या आप भी बहुत लेजी है बहुत आलसी है और अपनी इस लेजीनेस की वजह से गिल्ट भी फील करते बड़ा बुरा भी लगता है कि आप अपनी कीमती टाइम को यूं ही गवराहे हैं यूं ही बेस्ट कर रहे हैं।

Advertisement

अगर ऐसा ही तो आप लेजीनेस को दूर क्यों नहीं कर रहे हैं। क्या आपको लगता है कि लेजी होना एक हैबिट एक आदत है और आदतें तो बदली नहीं जा सकती या फिर आप लेजी रहना ही पसंद करते हैं।

भले आपके सारे जरूरी काम अधूरे रह जाए पेंडिंग रह जाए तो भी इतने सारे सवालों के जवाब भी लेजीनेस में तो नहीं दिए जा सकते ना।

यानि एक्टिव होना ही हर तरीके से फायदेमंद होगा। ऐसे में क्यों न लेजीनेस की हैबिट को बाय बाय करने का चैलेंज लिया जाए।

लेकिन आप इसमें तभी जीत पाएंगे जब आप वाकई में इसलिए लेजीनेस की समस्याओं को दूर करने के लिए तैयार होंगे।

और अगर आप उन लोगों में से हैं जिन्हें स्ट्रेस को दूर करना है पर उसका प्रॉपर तरीका समझ भी नहीं आ रहा है तो ये आर्टिकल आपके लिए है क्यूंकि आज हम इस आर्टिकल में हम आपको लेजी रूटीन को चेंज करने के टिप्स देने वाले हैं ।

जो वाकई में इफेक्टिव साबित होंगे बशर्ते आप आलस छोड़ने को तैयार हो। तो चलिए शुरू करते हैं और इन 9 टिप्स की मदद से लेजी नेल्स को गुडबाय करते हैं। 

1 . खुद से सवाल कीजिए कि आप लेजी क्यों नहीं रहना चाहते।

इस सवाल का जवाब भी आपको एक्टिव होने का पर्पज देगा। फिर चाहे आप स्टूडेंट हों और आंत्रप्रेन्योर हों या होममेकर हो।

2 . अपना पूरा फोकस नॉन लेजी थिंग्स पर लगाइए।

अभी तक आपको लेेने से भारी चीजें ही अट्रैक्ट करती है । जैसे बैड सोफा टीवी जंक फूड और आपका ये प्यार ऐसा स्मार्टफोन लेकिन अब से अपना पूरा फोकस नॉन लेजी थिंग्स पर लगा दीजिए और उस पर स्टिक रखिए जैसे , वॉक करना , हेल्दी ब्रेकफस्ट लेना, स्टडी करना और स्पोर्ट्स में एक्टिव रहना ।

3 . काइजेन टेक्नीक को फॉलो कीजिए।

इस जापानी टेक्नीक की मदद से आप अपने डेली रूटीन में पॉजिटिव चेंजेस ला सकते हैं। फोर एग्जाम्पल मान लीजिए कि आप एक अच्छे राइटर बनना चाहते हैं तो इसके लिए ये टेक्नीक किस तरीके से आपकी हेल्प करेगी सबसे

  • पहला स्टेप होगा कि हर दिन कम से कम 15 मिनट राइटिंग के लिए फिक्स कीजिए।
  • दूसरे स्टेप की हर दिन पाँच सेंटेंस लिखिए।
  • तीसरा स्टेप भी कि दिन के 10 मिनट बुक रीडिंग के लिए रखिए।
  • चौथा स्टेप की 7 दिन बाद रीडिंग और राइटिंग टाइम में दो दो  मिनट बढ़ा दीजिए

तो इस टेक्नीक को आप अपने हर टास्क में अप्लाई कर सकते हैं और धीरे धीरे डिफेक्टिव भी पॉजिटिव रिजल्ट भी पा सकते हैं।

4 . खुद को इस तरीके से इमैजिन कीजिए।

अक्सर हम खुद को इमेजिन करते टाइम सोफे पर सुस्ताते हुए यह सुबह देर तक सोते हुए विश्व लाइज करते हैं।

इसके अलावा दोस्तों के साथ पार्टी करते हुए या कोई मूवी देखते हुए या फोन पर लंबी लंबी बातें करते हुए इमेजिन करते हैं।

लेकिन अगर आप इस लेजी एटीट्यूड को चेंज करना चाहते हैं तो अब से खुद को एक्टिविटी अपने टास्क पूरे करते हुए देखिए।

आप स्टूडेंट हैं तो खुद को टफ चैप्टर्स का रिविजन करते हुए विज्वलिज कीजिए और अगर आप बिजनेस मैन हैं तो देखें कि आप अपना गोल अचीव करने के लिए नए आइडियाज को इम्प्लीमेंट कर चुके हैं।

ये विजुअलाइजेशन न केवल आलस को आपसे दूर करेगा बल्कि आपके सपनों को आपके काफी करीब भी ले आएगा।

5 . टू डू लिस्ट बनाइए।

हो सकता है कि एक बहुत बार टू डू लिस्ट बनाई हों लेकिन इस बार आप टू डू लिस्ट तभी बताइएगा जब आप वाकई में उस पर स्टिक होना चाहे उसे अमल का ढाचा है ।

और लेजीनेस को अलविदा करना चाहे इसके लिए शाम को ही नेक्स्ट डे की लिस्ट बना लीजिए जिसमें बहुत बड़े टास्क को छोटे छोटे टुकड़ों में बांट कर लिखें ताकि आप उसे कंप्लीट कर पाएं ।

और मोटिवेटेड फील करें जैसी आपको कोई टफ चैप्टर कंप्लीट करना है तो अगले दिन की लिस्ट में उस चैप्टर का उतना ही पार्ट लिखें जितना एक दिन में आसानी से किया जा सकता हो।

6 . परफेक्ट बनने की कोशिश मत कीजिए।

अक्सर लिजी ने और परफेक्शन ग्लोबली कनेक्ट हो जाते हैं क्योंकि बहुत से लोग परफेक्शन से काम करना चाहते हैं लेकिन जब ऐसा कर पाना पॉसिबल नहीं हो पाता तो वो काम को इग्नोर करने लगते हैं और काम पेंडिंग होते होते उनका ऐटिट्यूड लेजी हो जाता है।

इसीलिए एक साथ पूरा परफेक्शन मिलने की शर्त हटा दीजिए और हर दिन लिटिल परफेक्शन के साथ शुरुआत कीजिए और जब तक रोज प्रैक्टिस करेंगे तो परफेक्शन तो अपने आप आता ही जाएगा रोज आप ऐड करेंगे तो आप अपने गोल को अचीव कर लेंगे।

7 . तुरंत काम पर लग जाइए ।

लेजिनेस इसको दूर करने का एक बहुत अच्छा तरीका है। ज्यादा सोचे बिना ऐक्शन ले लेना क्योंकि पहला स्टेप लेने में ही सबसे ज्यादा प्रॉब्लम फील होती है और अगर वो स्टेप क्विक्ली ले लिया जाए तो आगे की राह बहुत ही आसान हो जाती है।

जैसे को पढ़ाई करनी है लेकिन टालमटोल किये जा रहे बैठे बैठे बस। तो ऐसे में तुरंत अपनी स्टडी टेबल पर पहुंच जाइए और बुक खोलकर के पढ़ना शुरू कर दीजिए।

आप देखेंगे कि अगले पांच मिनट में ही आपका आलस दूर होने लगेगा और आप उस टॉपिक में इन्वॉल्व हो जाएंगे तो कहने का मतलब है कि आक्शन आपको तुरंत लेना ही पड़ेगा।

8 .अपने आसपास सफाई रखिए।

शायद आपको ये पता न हो कि आपके आसपास सफाई रखकर भी आप लेजीनेस को काफी कम कर सकते हैं।

इसीलिए तो कहते हैं कि सुबह उठते ही अपने बिस्तर को ठीक करना चाहिए। रोज नहाना चाहिए अपनी अलमारियों को जमाकर रखना चाहिए और स्टडी टेबल पर सब कुछ साफ और ऑर्गनाइज्ड रहना चाहिए।

ऐसा करने की वजह यही है कि आसपास अगर सब कुछ बिखरा रहे तो माइंड डिस्टर्ब और डिस्ट्रिक्ट हो जाता है और किसी भी काम पर फोकस नहीं कर पाता।

ऐसे में लेजीनेस सबसे तेजी से अपनी तरफ अट्रैक्ट कर लेती है जबकि क्लीन सराउंड सेंस की पॉजिटिव वाइब्रेशन होती है जो आपको एक्टिव रहने में हेल्प करती है।

9 . सही स्लीपिंग पाटन को फॉलो कीजिए।

आलस को दूर करने के लिए आप सोना नहीं छोड़ सकते बल्कि आपको सही तरीके से सोना होगा। इसके लिए आपको हर दिन 7 से 8 घंटे की अच्छी नींद लेनी होगी और सोने से कुछ देर पहले ही टीवी और मोबाइल खुद से दूर करना होगा।

जब साउंड स्लीप लेंगे तो आपको दिन भर थकान नहीं रहेगी। आप फ्रेश फील कर पाएंगे। फिर आलस भी कम होता जाएगा तो दोस्तो लेजिनेस दूर करने के लिए एक टिप्स काफी हो सकती है ।

और ढेर सारी टिप्स भी बेकार हो सकती है क्योंकि ये सब आपकी कोशिश पर ज्यादा डिपेंड करता है। इसलिए अगर वाकई में आप लेजिनेस से तंग आ गए हैं तो इस बार लेेने से जीतकर दिखाइए।

इसमें पॉजिटिव सेल्फ टॉक और हेल्दी डाइट भी आपकी बहुत मदद करेगी। इसलिए अभी से शुरुआत कर दीजिए और ये बिल्कुल वैसा ही है कि जब भी कोई मूवी रिलीज होती है तो लोग बुरे रिव्यूज भी देते हैं अच्छे भी देते हैं ।

लेकिन आप कहते है की भाई मैनेज मूवी को देखकर डिसाइड करें कि ये मूवी अच्छी है कि बुरी तो आपको यहां पर यही डिसाइड करना है कि कोई भी टेक दुनिया की कोई भी नॉलेज कितनी भी अच्छी या डिफिकल्ट क्यों न हो।

जब तक आप उसे प्लानिंग करेंगे आपको पता चलेगा कि आप कितने पानी में है ।

  • इंडियन टॉइलट इस्तेमाल करें ।

इंग्लिश स्टाइल टॉइलट से पेट की पूरी तरह सफाई नहीं होती और गंदगी अंदर ही रह जाती है। यह कब्ज, मेटाबॉलिजम कम होने और दूसरी कई बीमारियों की वजह बनता है।

जरूरी है कि हम इंडियन स्टाइल टॉइलट ही इस्तेमाल करें। इसमें बैठने से पेट की पूरी तरह सफाई होती है।

  • अच्छी तरह स्नान करें ।

जल्दबाजी में स्नान कभी न करें। नहाने के लिए कम-से-कम 10 मिनट का वक्त जरूर निकालें। आराम से धीरे-धीरे पूरे शरीर को दबाकर और रगड़कर नहाएं।

इससे शरीर में खून का दौरा सही होता है। नहाने के लिए सादा पानी इस्तेमाल करें। सर्दियों में चाहें तो गुनगुना पानी भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • भोजन हल्का गर्म खाएं ।

खाना कभी भी बहुत गर्म या ठंडा न खाएं। खाने का तापमान शरीर के तापमान के स्तर पर हो बेहतर है। इससे शरीर को खाने के साथ तालमेल बिठाने में दिक्कत नहीं होगी।

साथ ही पाचन भी अच्छा होता है। वैसे, खाना हाथ से खाना बेहतर है। इससे खाने के साथ एक तरह का संबंध कायम होता है।

  • नॉर्मल तापमान वाला पानी पिएं ।

सर्दी हो या गर्मी, हमेशा कमरे के तापमान वाला पानी पिएं। ठंडा या गर्म पानी शरीर के लिए फायदेमंद नहीं होता।

सर्दियों में भी कमरे के तापमान वाला पानी पीना बेहतर है। बहुत जरूरी लगे और जुकाम आदि हो तो हल्का गुनगुना पानी पी सकते हैं।

  • दो सेट सूर्य नमस्कार करें ।

रोजाना सुबह खाली पेट आसन करें। सूर्य नमस्कार जरूर करें। दो-दो के दो सेट यानी कुल 4 सूर्य नमस्कार कर लें। इससे ज्यादा कर पाएं तो और अच्छा है।

सूर्य नमस्कार अपने आप में संपूर्ण एक्सरसाइज है। इससे पूरे शरीर की कसरत हो जाती है।

  • 10 मिनट प्राणायाम करें ।

हर सुबह 10 मिनट का वक्त प्राणायाम के लिए जरूर निकालें। अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, भस्त्रिका कोई भी प्राणायाम कर सकते हैं। प्राणायाम तन और मन, दोनों को रिलैक्स करता है।

  • सुबह मेडिटेशन जरूर करें ।

रोजाना सुबह कम-से-कम 5 मिनट मेडिटेशन जरूर करें। आपको जैसा पसंद हो, वैसा मेडिटेशन करें। सांस पर केंद्रित ध्यान या फिर त्राटक भी कर सकते हैं। त्राटक से आंखों की रोशनी भी बेहतर होती है।

  • वीडियो देखना न भूले ।

तो ओल्ड वेरी बेस्ट और इसी के साथ आगे भी ऐसी इंटरेस्टिंग और इनोवेटिव जानकरी के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये । धन्यवाद।

यह भी पढ़े ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *