Big Gaming Companies में जॉब कैसे पाए ? हिंदी

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सबका और मै आपका दोस्त पियूष और आज के  इस लेख हम आपको बताने वाले है की आप एक Big Gaming Companies में जॉब कैसे पाए ? हिंदी तो चलिए शरू करते है और जानते है की इसकी प्रोसेस क्या है ।

Advertisement

गेम खेलना तो सभी को पसंद होता ही है लेकिन इस ऑनलाइन दुनिया की गेम स्पीड तो एकदम अलग और एडवांस्ड होते हैं। हां ज्यादातर स्मार्टफोन यूजर्स हर दिन कम से कम एक घंटे का टाइम तो इन गेम्स में बिजी रहते ही हैं।

        Big Gaming कम्पनीज जॉब कैसे पाए ?

यही गेम सब कोई आपरेशनल इंटरटेनमेंट नहीं रह गया है बल्कि डेली लाइफ का इम्पॉर्टेंट और एक्साइटिंग पार्ट बन चुका है और फिर इंडिया भी गेम्स के लिए डवलपमेंट हब बनता जा रहा है जिसकी वजह से इस सेक्टर में जॉब अपॉर्चुनिटी भी काफी ज्यादा बढ़ रही है।

ऐसे में अगर आपको गेम खेलना तो पसंद है ही साथ ही गेम्स बनाने में भी आप माहिर बनना चाहते हैं ताकि इस ऑनलाइन गेमिंग वर्ड में खुद को स्टैब्लिश कर सकें और बड़ी बड़ी गेम कंपनीज आपको हायर करना चाहे तो इसके लिए आपको गेमिंग करियर का पूरा प्रोसेस समझना होगा और आज इस लेख में आपको गेमिंग वर्ड के लिए खुद को तैयार करने का पूरा प्रोसेस पता चलने वाला है।

Advertisement

उस लेख को लास्ट तक जरूर देखें क्योंकि लेख लास्ट में आपके लिए इफेक्टिव टिप्स भी है जो बैक गेम कंपनीज में एंट्री लेने के लिए आपकी हेल्प कर सकते हैं। तो चलिए शुरू करते हैं और सबसे पहले स्पीड के लिए रिक्वायरमेंट एजुकेशन की बात करते हैं।

  • Big Gaming Companies रिक्वायरमेंट एजुकेशन के क्या है ?

गेमिंग इंडस्ट्री में आप गेम डिजाइनिंग से लेकर के डेवलपमेंट और प्रोग्रामिंग तक बहुत से फील्ड्स में अपना करियर बना सकते हैं लेकिन इस इंडस्ट्री में अपना करियर बनाने के लिए आपके पास प्रॉपर नॉलेज और ट्रेनिंग होनी चाहिए।

वैसे तो गेम डेवलपमेंट क्रिएटिव वर्क है जिसमें सबसे ज्यादा आपका विजन और क्रिएटिविटी ही मैटर करेगी लेकिन एक गेम डिजाइनर बनने के लिए आपको बहुत सी और भी स्किल्स सीखने की जरूरत होगी जो आप कोई फॉर्मल कोर्स करके ही मिले ।

ये डिप्लोमा या डिग्री कोर्स आपकी नॉलेज को बढ़ाएंगे ही साथ ही आप किस सीवी को स्ट्रॉन्ग बनाने के साथ साथ आपको एक स्ट्रॉन्ग कॉम्पिटिटर भी साबित करेंगे। इसलिए गेम डेवलपमेंट कोर्स को ऑप्शनल मत समझिएगा क्यूंकि किसी भी बेस्ट करियर ऑपर्चुनिटी के लिए आपके पास फॉर्मल एजुकेशन तो होनी ही चाहिए इसलिए आपको बतादे कि अगर आप सर्टिफिकेट कोर्स करना चाहते हैं ।

तो आपका क्लास 10th पास होना जरूरी होगा लेकिन गेम डिजाइन में डिप्लोमा कोर्स करने के लिए आपको किसी रिक्वायर्ड बोर्ड से क्लास 12th पास होना जरूरी होगा और इसमें आपकी कोई भी स्ट्रीम हो सकती है।

कुछ कॉलेज इस क्लास ट्वेल्थ में 60% परसेंट माक्र्स स्कोर करने वाले कैंडिडेट्स को ही एडमिशन दिया करती हैं। स्पेन में बैचलर डिग्री लेने के लिए आपको 12th पास होना जरूरी होगा और पोस्ट ग्रैजुएट करने के लिए इसी फील्ड में बैचलर डिग्री होना भी जरूरी है।

  • गेमिंग वर्ड की कुछ बेस्ट सर्टिफिकेट डिप्लोमा और डिग्री कोर्सेस के नाम ।

अब जान लेती है गेमिंग वर्ड की कुछ बेस्ट सर्टिफिकेट डिप्लोमा और डिग्री कोर्सेस के नाम सबसे बड़े सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्सेस जो है।

सर्टिफिकेट इन गेमिंग सर्टिफिकेट ,कोर्स इन गेम आर्ट इन डिजाइनिंग ,डिप्लोमा इन गेम डिजाइन एंड इंटिग्रेशन ,डिप्लोमा इन एनिमेशन गेमिंग इन स्पेशल इफेक्ट्स ,डिप्लोमा इन गेम डिजाइन यानी कि TGT ,डिप्लोमा इन गेम डवलपमेंट ,डिप्लोमा इन गेम प्रोग्रामिंग ,डिप्लोमा इन प्रोडक्शन गेमिंग ,एडवांस डिप्लोमा इन गेम प्रोग्रामिंग ,एडवांस डिप्लोमा इन गेम आर्ट इन थ्रीडी गेम कॉन्टेंट क्रिएशन और एडवांस्ड डिप्लोमा इन गेम डिजाइन एंड डेवलपमेंट एप्लीकेशन ।

  • गेमिंग वर्ड की कुछ बेस्ट बैचलर कोर्सेस के नाम ।

और अब ये है बैचलर कोर्सेस Bsc इन गेमिंग ,बीएससी एनिमेशन एंड गेमिंग ,बैचलर्स इन मीडिया एनिमेशन एंड डिजाइन यानि कि BEMPT बैचलर ऑफ टेक्नॉलजी यानी की Btech कंप्यूटर साइंस एंड गेम डेवलपमेंट ,बैचलर ऑफ आर्ट्स यानी की BA इन एनिमेशन एंड कंप्यूटर ग्राफिक्स बैचलर ऑफ आर्ट यानी बीए इन डिजिटल फिल्म मेकिंग एंड एनिमेशन, बैचलर आफ साइंस इन एनिमेशन गेम डिजाइन एंड डवलपमेंट और बैचलर आफ साइंस यानि की Bsc इन ग्राफिक्स एनिमेशन एंड गेमिंग ।

  • गेमिंग वर्ड की कुछ बेस्ट मास्टर्स कोर्स के नाम ।

और गेमिंग में किए जाने वाले मास्टर्स कोर्स की बात की जाए तो Msc इन गेमिंग ,मास्टर आफ साइंस यानि की Msc इन गेम डिजाइन इन डेवलपमेंट ,मास्टर आफ साइंस यानि की Msc इन मल्टीमीडिया एंड एनिमेशन ,इंटीग्रेटेड ,Msc इन मल्टीमीडिया एंड एनिमेशन विद गेम आर्ट एंड डिजाइन तो इन कोर्सेस में एडमिशन मेरिट बेस पर भी मिल सकता है और एंट्रेंस टेस्ट के बेस पर भी अब आपके कोर्सेस की एवरेज फ़ीस भी बताती है।

  • गेमिंग वर्ड के कोर्स की फ़ीस क्या है ।

सर्टिफिकेट कोर्स की फीस 3 हजार रुपए से 50 हजार रुपए तक हो सकती है। डिप्लोमा कोर्स की फीस 5 हजार से 1 लाख रुपए तक हो सकती है। यूजी प्रोग्राम की फीस 10 हजार से 2 लाख रुपए तक हो सकती है और पीजी प्रोग्राम की फीस 20 हजार से 4 लाख रुपए तक हो सकती है।

आपको फीस में काफी डिफरेंस मिल सकता है क्यूंकि गेमिंग के किस इंस्टिट्यूट में आप किस कोर्स में एडमिशन ले रहे हैं वो कोर्स फीस को बहुत अफेक्ट करेगा जिसे बीएससी गेम डिजाइनिंग एंड डेवलपमेंट की एवरेज पीस इंस्टिट्यूट के अकॉर्डिंग 1 से 7 लाख रुपए तक हो सकती है और बीएससी एनीमेशन इन मल्टीमीडिया की टॉप कॉलेज की एवरेज फीस एक से पांच लाख रुपए तक भी हो सकती है ।

  • इंडिया के कुछ ऐसे बेहतरीन गेमिंग कॉलेज जिसके नाम ।

और फीस के बाद आपको बताती हैं इंडिया के कुछ ऐसे बेहतरीन कॉलेज जिसके नाम जहां से आप गेम डेवलपमेंट डिजाइन से रिलेटेड कोर्सेस कर सकते हैं।

  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी जालंधर ,
  • स्कूल ऑफ डिजाइन यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज देहरादून ,
  • भारती विद्यापीठ यूनिवर्सिटी पूणे ,
  • माया एकेडमी ऑफ एडवांस्ड सिनेमैटिक यानि की MAAC मुम्बई ,
  • इंस्टिटयूट ऑफ क्रिएटिव आर्ट बैंगलोर ,
  • एरीना एनिमेशन न्यू डेली ,
  • एमआईटी इंस्टीटयूट ऑफ डिजाइन पूणे ,
  • एलिमेंटरी एकेडमी कॉलेज फॉर एक्सीलेंस इन एनिमेशन बैंगलौर ,
  • एकेडमी ऑफ एनिमेशन एंड गेमिंग नोएडा ,
  • ग्लोबल स्कूल ऑफ एनिमेशन एंड गेम्स दिल्ली,
  • पी ए आई इंटरनेशनल प्लॉनिंग सोल्यूशंस पूणे ।

अगर आप गेमिंग में ऑनलाइन कोर्स करना चाहें तो आप Udemy ,EDX ,COURSERA ,LYNDA पर बेस्ड कोर्स चूस कर सकती है और अगर आप का प्लान गेम डिजाइनर बनने का है तो आपको पता होना चाहिए कि एक गेम डिजाइनर के पास गेम डिजाइनिंग में डिप्लोमा या बैचलर डिग्री होनी ही चाहिए। इसके अलावा कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में बैचलर डिग्री होल्डर कैंडिडेट्स भी गेम डिजाइनर की पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

इस जॉब के लिए कोई स्पेसिफिक एंट्री लेवल रिक्वायरमेंट नहीं होता है लेकिन बैचलर डिग्री कैंडिडेट्स को प्रिफरेंस दी जाती है और इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के चांसेज सबसे ज्यादा होते हैं क्योंकि उनमें कंप्यूटर एप्लीकेशंस के टेक्निकल आस्पेक्ट के लिए बेहतर इनसाइट होती है।

एजुकेशनल क्वॉलिफिकेशन के अलावा इस फील्ड में ब्राइट करियर बनाने के लिए आपके इन स्किल्स का होना भी जरूरी है। पैशन ,गेमिंग प्लैटफॉर्म्स और टेक्नोलॉजीस के प्रति अवेयरनेस कोडिंग लैंग्वेज की नॉलेज ,नॉलेज जॉब सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग ग्राफिक्स ,गुड इंटरकोर्स ,नॉलेज कम्यूनिकेशन स्किल्स ,गुड ऑर्गनाइजेशन नॉलेज स्किल ,प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स इमेजिनेशन क्रिएटिविटी ,स्ट्रांग विजुअलाइजेशन स्किल्स और ड्रॉइंग स्किल्स जैसे गेम डिजाइनर और डेवलपर के बीच का क्या डिफरेंस होता है इसका आइडिया भी आपको होना चाहिए।

इसलिए आपको बता देते हैं कि गेम डिजाइनर वीडियो गेम का विजनर होता है और गेम डेवलपर उसके विजन को रियालिटी में कनवर्ट करता है। गेम डेवलपमेंट का साइकिल गेम डिजाइनर से ही शुरू होता है और गेम डिजाइनर की बहुत सी रिस्पॉन्सिबिलिटी भी होती है जिसमें गेम का पूरा कांसेप्ट तैयार करना उसके कैरेक्टर्स स्टोरी लाइन और यूजर्स के इंटरैक्ट करने का तरीका शामिल होता है। इसमें मैप्स और सीनरी नोट्स भी इंक्लूड होते हैं।

वहीं गेम डेवलपर डिजाइनर के आइडिया को कोड में कन्वर्ट करता है। उसकी रिस्पांसिबिलिटी में कंप्यूटर बेस्ड कैरेक्टर्स के लिए विजुअल आस्पेक्ट जैसे गेम स्टूडेंट्स मैप्स प्रोग्रामिंग एआई इंप्लीमेंट करना होता है। गेम डिजाइनर और डेवलपर के बीच का डिफरेंस समझ लेने के बाद लेख में आगे आपको बताते हैं कि इस गेमिंग इंडस्ट्री में गेम डिजाइनर और गेम डेवलपर के अलावा आप गेम एनिमेटर ,गेम ऑडियो इंजीनियर ,क्रिएटिव गेम डाइरेक्टर ,गेम आर्टिस्ट ,गेम मार्केटर या PR गेम सिस्टम डिजाइनर जैसे डिफरेंट जॉब रोल्स में अपने लिए बेस्ट चूस कर सकते हैं ।

और साथ ही आपको इन सारे एरियाज में एम्प्लॉयमेंट ऑपर्च्युनिटी भी मिल सकती है जैसे क्रिएटिव एजेंसीज ,एडवर्टाइजिंग फर्म्स ,ब्रॉडकास्टिंग कंपनीज ,स्पोर्ट्स असोसिएशंस कंप्यूटिंग एंड इलेक्ट्रॉनिक्स ऑर्गनाइजेशंस ,इवेंट ऑर्गनाइजर्स ,एजुकेशन प्रोवाइडर्स इन एजुकेशन रिसोर्स सप्लायर्स हार्डवेयर इन सॉफ्टवेयर डिस्ट्रीब्यूटर्स ,सॉफ्टवेयर डेवलपर्स ,PR कम्युनिकेशंस ऐड मार्केटिंग फर्म्स ,हार्डवेयर एंड सॉफ्टवेर डिस्ट्रीब्यूटर्स और ट्रीट एंड रीटेल ऑर्गनाइजेशंस।

  • गेम डिजाइनर को हायर करने वाली इंडिया की टॉप रिक्रूटमेंट एजेंसीज हैं।

वैसे गेम डिजाइनर को हायर करने वाली इंडिया की टॉप रिक्रूटमेंट एजेंसीज हैं।

  • अपर गेम्स मुम्बई ,
  • 2 PI इंटरैक्टिव हैदराबाद ,
  • ध्रुवा इंटरैक्टिव बैंगलौर ,
  • गेम्स2विन  मुम्बई ,
  • 99 गेम्स कर्नाटका ,
  • GSN गेम्स इंडिया और
  • गीक मेंटोर स्टूडियोज़ नोएडा ।
  • गेमिंग डिफरेंट पोजिशंस के लिए मिलने वाली सैलरी ।

तो गेमिंग डिफरेंट पोजिशंस के लिए मिलने वाली सैलरी में काफी डिफरेंस भी होता है और ये आपकी क्वॉलिफिकेशन पर काफी हद तक डिपेंड करेगी इसीलिए ये स्टार्टिंग सैलरी 18 हजार पर मंथ भी हो सकती है और 1 लाख पर मंथ भी हो सकती है।

वैसे आपके अंदाजे के लिए बतादें कि गेम डिजाइनर को शुरुआत में सैलरी 2 लाख पर एनम मिल सकती है और डवलपर की 3 लाख 50 हजार पर एनम। बाकी तो आप जानते हैं कि आपकी स्किल्स टैलेंट और एक्सपीरियंस इस सैलरी पैकेज में काफी डिफरेंस ला सकते हैं और आप किस कंपनी से अप्रोच कर रही हैं ।

वीडियो देखना न भूले ।

तो दोस्तों हम उम्मीद करते है की आपको हमरे द्वारा दी गई यह जानकरी बहोत पसंद आई होगी की Big Gaming Companies में जॉब कैसे पाए ?  और ऐसी बहेत्रिन जानकरी के लिए आप हमारे साथ जुड़े रहिये । धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *