Best Manufacturing Business list in Hindi

हेलो दोस्तों आप सबको मेरा प्यार भरा नमस्कार मै हु आपका दोस्त पियूष और आज में आपको 2021 to 2030 में किये जाने वाले Best Manufacturing Business की पूरी जानकरी देने वाला हु जो आपको काफी हेल्प करेगा ।

Advertisement

अमीर बनने का सपना हर कोई देखता है लेकिन सिर्फ कुछ सोचने से कोई अमीर नहीं बनता। अपनी ज़िन्दगी की ज़रूरतें पूरी करने के लिए लोग नौकरी तो करते हैं पर सपने पूरे करने के लिए बिजनेस करना पड़ता है ।

महंगी लाइफस्टाइल और ऐशो आराम की जिंदगी जीने वाले दुनिया के ज्यादातर अमीर लोग बिजनेस करते हैं। बिजनेस को लेकर के कॉमन पब्लिक अक्सर ये दो बातें सोचती हैं कि बिजनेस तो सिर्फ अमीर लोग ही करते हैं और बिजनेस करने के लिए ढेर सारा पैसा चाहिए लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

Advertisement

अम्बानी ,टाटा. बिरला दुनिया के किसी भी सक्सेसफुल बिजनेस मैन को आप देख लीजिए उन्होंने भी बहुत छोटी सी शुरुआत की और आज बिलियन डॉलर्स का बिजनेस कर रहे हैं।

इंडिया में मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है जो 2025 एक ट्रिलियन डालर तक पहुंच जाएगा। मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में एंटरप्रेन्योरशिप एक लेटेस्ट ट्रेंड बनता जा रहा है जिसमें लोग लाखों कमा सकते हैं और फाइनैंशली एक हैप्पी लाइफ लीड कर सकते हैं।

लेकिन इसके लिए सही प्लानिंग स्किल्स एक्सपर्टीज और टीम के साथ साथ ऑनेस्ट कोशिश करने की ज़रूरत पड़ेगी। यानि कि इमानदारी से काम करने की। तो आज हम आपको ऐसी ही जर्नी पर ले जायेंगे जहां पर आप जानेंगे कि वो कौन से बेस्ट मैनुफैक्चरिंग बिजनेस है जो 2021 से 2030 तक सबसे ज्यादा डिमांड में रहने वाले हैं। तो चलिए देखते हैं की पूरी केस स्टडी ।

1 .  LED बल्ब के मैनुफैक्चरिंग बिजनेस ।

से कीजिए अपनी ज़िन्दगी में उजाला। जी हां हर महीने सैलरी क्रेडिट होते ही राशन पानी बिजली पेट्रोल और ईएमआई जैसी चीजों में आधे पैसे तो यूं ही निकल जाते हैं। ऐसे में अगर इनमें से किसी भी चीज़ का खर्च कम हो जाए तो गड़बड़ाता हुआ बजट संभाल सकता है।

इलेक्ट्रिसिटी बिल कम करने के लिए LED बल्ब का यूज ज्यादा होने लगा है। ऐसे में मार्केट में बढ़ती इनकी डिमाण्ड के चलते एलईडी बल्ब मैन्युफैक्चरिंग एक सक्सेसफुल बिजनेस आइडिया बन गया है ।

इंडिया में एलईडी बल्ब का बिजनेस 2015 में जीरो प्वाइंट थ्री टू बिलियन डॉलर्स का था जो 2019 में टू प्वाइंट थ्री बिलियन डॉलर्स का हो गया।

अब अगर आप किसी वेल नोन ब्रैंड जैसे बजाज सेल्स का सूर्या या फिलिप्स के एलईडी बल्बों को खरीदते हैं तो ये आपको थोड़े महंगे पड़ते हैं इसलिए एलईडी बल्ब का लोकल मैन्युफैक्चरिंग का बिजनेस ग्रो कर रहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने भी फरवरी में अपने मन की बात प्रोग्राम में सेल्फ एम्प्लॉयमेंट के लिए एलईडी बल्ब मैन्युफैक्चरिंग का जिक्र करते हुए बिहार के प्रमोद बैठा जी का नाम लिया था जो दिल्ली में एलईडी बल्ब की कंपनी में काम करते थे और लौटाने अपने गांव लौटकर एलईडी बल्ब बनाने का अपना खुद का बिजनेस शुरू किया और चार पांच लोगों को रोजगार भी दिया।

एलईडी बल्ब मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस को मिनिमम कैपिटल के साथ भी किया जा सकता है कि आप पर डिपेंड करता है कि आप इसमें कितना इन्वेस्ट करना चाहते हैं।

वैसे अगर आप इस बिजनेस की टेक्निकल नॉलेज लेना चाहते हैं तो IIT यानी इंस्टिट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल डवलपमेंट आपकी हेल्प कर सकता है जहां पर आपको इसकी ट्रेनिंग लाइव वर्कशॉप से लेकर की कंपनी रजिस्ट्रेशन तक की पूरी जानकारी दी जाती है।

डिटेल्स के लिए आप IIT की वेबसाइट www.iit.org.in पर जा सकते हैं या IIT को 7607655555 पर कॉल करके ले सकते हैं।

2 .  हैंड सेनिटाइजर मैनुफैक्चरिंग बिजनेस ।

कोरोना वायरस के चलते हमारी आदतें और लाइफस्टाइल बहुत बदल गयी है। घर हो या कार आजकल लोग हैंड सैनिटाइजर रखना नहीं भूलते हैं अकेले घर से बाहर निकलते हुए बहुत से लोग जेब में सैनिटाइजर की छोटी सी बोतल लेना नहीं भूलते।

तो बात यहां पर से पर्सनल हाइजीन की रही है। लार्ज स्केल  भी अफेयर्स रेजिडेंशल सोसाइटीज अपार्टमेंट्स हॉस्पिटल्स शॉपिंग मॉल्स होटल्स ट्रांसपोर्ट सेक्टर्स हर कहीं सेफ्टी के लिए सैनिटाइजर को बड़े लेवल पर यूज किया जा रहा है इसलिए मार्केट की डिमांड को देखते हुए सैनिटाइजर मैन्युफैक्चरिंग में बिज़नस क्लास को बहुत बढ़ गया है ।

लोकडाउन के बाद से सिर्फ एक साल के अंदर ही 2021 तक इंडिया में सैनिटाइजर का मार्केट 566 मिलियन डॉलर का हो गया है। हाथों को सैनिटाइज करना भी एक ऐसी आदत बन गई है जिसे एक गुड हैबिट काउंट किया जा रहा है और अब यह आदत हमारे साथ लंबे टाइम तक चलने वाली है।

इसलिए सेनिटाइजर की डिमांड आने वाले कई सालों तक यूं ही बनी रहेगी। फार्मास्युटिकल्स साबुन शैम्पू बनाने वाली कंपनी अपने प्रॉडक्ट्स की ब्रांडिंग पर लाखों करोड़ों रुपए खर्च करती हैं इसलिए उनके प्रॉडक्ट्स महंगे होते हैं जो कॉमन पब्लिक के बजट से बाहर होते हैं।

इसलिए लोकल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट के ग्रो करने का स्कोप बहुत ज्यादा है क्योंकि अपने प्रॉडक्ट को जितना लोगों के बजट में रखेंगे उतना बिजनेस को फायदा होगा क्योंकि कोई भी आम सेनिटाइजर लगभग सभी जर्म्स को मार देता है। ‘

अपने ब्रैंड को स्टैब्लिश करने के अलावा भी अब होटल रेस्ट्रॉन्ट और एंटरप्रेन्योर्स एनजीओ और कॉमन डिपार्टमेंट्स जैसे कई सेक्टर्स को उनकी जरूरत के मुताबिक कस्टमाइज्ड हैंड सैनिटाइजर भी सप्लाई कर सकते हैं।

afaqs! इसकी वेबसाइट पर। को एक आर्टिकल दिख जाएगा जिसमें कहा गया है कि इंडिया में हैंड सैनिटाइजर का बिजनेस फोर हंड्रेड परसेंट याने की 400 प्रतिशत तक बढ़ गया है और मार्केट में डिमांड इतनी है कि 350 से ज्यादा अलग अलग ब्रैंड्स हैंड सेनिटाइजर बना रहे हैं ।

तो आप भी इस बिजनेस में उतरना चाहते हैं तो 10 लाख रुपए से इसकी शुरुआत की जा सकती है जिसमें आपकी फैक्ट्री के लिए जगहें मैन्युफैक्चरिंग यूनिट रॉ मटीरियल से और जरूरत की सभी चीजें आ जाएंगी।

बाकी सेंट्रल गवर्मेंट ने कई ऐसी स्कीम्स लांच की है जिनमें आपको लोन भी मिल सकता है। डिटेल सेकने के लिए आप MSME.gov.in पर कर सकते हैं।

फिर भी अगर कोई डाउट हो तो अपने स्टेट में किसी ऐसे आंत्रप्रेन्योर को ढूंढिए जो ऑलरेडी इस बिजनेस को सक्सेस फुली रन कर रहा है। एक्सपर्ट एडवाइस हमेशा काम आती है।

3 .अगरबत्ती का बिजनेस ।

अगरबत्ती की खुशबू से महके का आपका कारोबार। जी हां अपने देश में ईश्वर या आस्था इतनी गहरी है कि आपको कदम कदम पर मंदिर मस्जिद मिल ही जाएंगे। साथ ही लोग अपने घरों में सुबह शाम अगरबत्ती जलाकर अपनी प्रार्थना संपन्न करते हैं।

इसलिए अगर आप अगरबत्ती का मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाते हैं तो ये कामयाब कारोबार साबित हो सकता है।

अगरबत्ती बनाने वाली कंपनीज भी टीवी रेडियो प्रिंट और सोशल मीडिया पर अपने ब्रैंड का प्रमोशन करती हैं। धार्मिक आस्था के अलावा भी अगरबत्तियों का इस्तेमाल ऑफिस  ,होटल , रेस्ट्रॉन्ट्स को महकाने के लिए भी होता है ।

ग्लोबल अरोमा इंडस्ट्री में इंडिया फाइव हंड्रेड मिलियन डॉलर का कॉन्ट्रिब्यूशन देता है तो इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इस स्पेस में कमाई और सक्सेस का कितना बेहतर स्कोप है।

अगरबत्ती बनाने के रॉ मटेरियल से इंडिया के लगभग सभी स्टेट में आसानी से मिल जाते हैं इसलिए ट्रांसपोर्टेशन पर ज्यादा खर्चा नहीं आएगा और ना ही इसके लिए किसी बड़े सेटअप की जरूरत पड़ती है।

एक छोटे से कमरे से ही आप इस बिजनेस को ऑपरेट कर सकते हैं। बहुत बड़े स्केल पर भी अगर आप एक सेटअप लगाते हैं तो ज्यादा से ज्यादा 10 लाख रुपये तक खर्चा आएगा।

लेकिन अगर आप सेल्फ हेल्प ग्रुप रजिस्टर्ड करवाकर के इस बिजनेस में उतरते हैं तो लागत आधी से कम हो सकती है।

साथ ही कोई लाइसेंस किसी महिला के नाम पर है तो गवर्मेंट से सब्सिडी भी मिलती है। इसके अलावा आप अपने आसपास के लोगों को रोजगार भी दे सकते हैं ।

इंडिया में उत्तरप्रदेश गुजरात महाराष्ट्र कर्नाटका मध्यप्रदेश और ओडिसा अगरबत्ती मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए फेमस है। 10 20 रुपये से लेकर की प्रीमियम क्वॉलिटी प्रॉडक्ट्स तक के अपने अपने कस्टमर्स हैं ।

याद रखिएगा कि हर बिजनेस लोगों की जरूरत की देन होता है । गरबत्ती बनाने के साथ ही अब हैंडमेड कैंडल भी बना सकते हैं।

होटल्स ,रेस्ट्रॉन्ट्स आसपास वगैरह एरोमेटिक कैंडल जलाकर एक फ्रेश एनवायरमेंट बनाते हैं जो कि कस्टमर्स को स्पेशल फील कराता है। वैसे भी अब कैंडल लाइट डिनर को कैसे भूल सकते हैं इस ओवल आउटर लाइफस्टाइल बागी बढ़ते ।

4 . मोबाइल फोन एक्सेसरीज़।

जरा सोचिए क्या आप अपने मोबाइल के बिना एक दिन भी गुजार पाएंगे। शायद नहीं। सुबह आंख खुलने से लेकर रात को सोने से पहले तक लोग मोबाइल यूज करते हैं।

महंगी मोबाइल फोन रखना आजकल एक ट्रेंड बन गया है और ये डेकोरेटिव एक्सेसरी से सजाना भी एक फैशन वह जमाना कब का पुराना हो गया है जब लोग सिम्पल वॉटर कलर वाले मोबाइल कवर्स को यूज करते थे अब ऐसी एक्सेसरीज मार्केट में आ गई हैं ।

जो आपके मोबाइल को प्रोटेक्शन देने के साथ साथ आपको एक फैशनेबल लुक और कूल स्टाइल स्टेटमेंट भी देती है। लोग महीने दो महीने में ही मोबाइल एक्सेसरीज बदलते रहते हैं इसलिए इनकी डिमांड भी बढ़ती ही जा रही है।

सेल्फी स्टिक्स ,हेडफोन्स ,केबल्स ,स्क्रीन ग्लास और मोबाइल कवर्स ये सारी चीजें मोबाइल एक्सेसरीज हैं जिनकी जरूरत हमें आए दिन पड़ती ही रहती है।

अगर इन्वेस्टमेंट की बात करे तो टेंपर्ड ग्लास बनाने वाली मशीन लगभग 75 हजार से डेढ़ लाख रुपये तक किया जाती है।

‘जिन टेंपर्ड ग्लास को हम मार्केट में पचास से सौ दो सौ रुपए देकर खरीदते हैं उनमें फिफ्टी परसेंट तक का प्रॉफिट मार्जिन होता है।

अगर आप भी मोबाइल एक्सेसरीज के शौकीन हैं और आए दिन नए प्रॉडक्ट्स खरीदते रहते हैं तो आपने सेलबेल का नाम तो पहले से सुना होगा लेकिन इंडियन कंपनी है जिसे चिराग विल्मा और पवन दिल्मा ने सिर्फ 7 लाख रुपए इनवेस्ट करके शुरू किया था आज उनका टर्नओवर करोड़ों में पहुंच गया है ।

एमेजॉन और फ्लिपकार्ट पर इनके प्रॉडक्ट्स की बहुत ज्यादा डिमांड रहती है ।ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते ट्रेन के चलते आपको अपने प्रॉडक्ट्स के लिए मार्केट ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

अगर आपको कस्टमर्स का प्रॉडक्ट टेस्ट पता है और आप लोगों को कुछ नया और इनोवेटिव देना चाहते हैं तो इस बिजनस में अपना हाथ आजमा सकते हैं।

इंडिया में मोबाइल एक्सेसरीज का मार्केट साल 2016 में लगभग डेढ़ बिलियन डॉलर का था जो 2024 तक साढ़े तीन बिलियन डॉलर का हो जाएगा।

अगर आप भी बिजनस करने का मन बना रहे हैं तो अरबों डॉलर की इस बहती गंगा से बाल्टी दो बाल्टी मुनाफा आप भी कमा सकते हैं।

वीडियो देखना न भूले ।

  • यह भी जान लीजिये ।
  • मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस क्या है?

जी हाँ यदि उद्यमी किसी वस्तु या उत्पाद का निर्माण कर रहा होता है तो इसका अभिप्राय यह है की वह मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस से जुड़ा हुआ है। जबकि वह उद्यमी जो किसी वस्तु या उत्पाद का निर्माण न करके अपने ग्राहकों को सर्विस मुहैया करा रहा होता है वह सर्विस बिजनेस से जुड़ा हुआ होता है ।
  • गांव में कौन सा बिजनेस करें?

गांव के युवा कम लागत में शुरू करें ये 5 बिजनेस, होगी अच्छी आमदनी
  • अनाज खरीद बिक्री बिजनेस (Grain Purchase Sales Business) …
  • फ़ोटो कॉपी और फोटोग्राफी बिजनेस (Photocopy & Photography Business) …
  • किराने की दुकान (General Store) …
  • कॉस्मेटिक की दुकान (Cosmetic shop)
  • 5000 में कौन सा बिजनेस शुरू करें?

5000-10000 me konsa business kare ? (Top list)
  1. Blogging business. अगर आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे तो blogging के बारेमे सबकुछ जान सकते है। …
  2. Breakfast point or stall. …
  3. Evening samosa/chop stall. …
  4. YouTube as a business. …
  5. LIC agent. …
  6. Digital marketing agency. …
  7. Web designing agency. …
  8. Sell products on marketplaces
  • एक लाख रुपये में कौन सा बिजनेस कर सकते है?

प्रधानमंत्री मुद्रा स्‍कीम के प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल के मुताबिक, अगर आप टमेटो सॉस मैन्‍युफैक्‍चरिंग यूनिट लगाने चाहते हैं तो आपके पास लगभग 1 लाख 95 हजार रुपए रुपए होने चाहिए ।
  • खुद का बिजनेस कैसे करे?

खुद का बिजनेस कैसे शुरू करें – 8 बढ़िया टिप्स
  1. Business Plan बनाना
  2. अपने ग्राहकों के साथ अच्छा व्यवहार करें
  3. सही निवेशक खोजें
  4. एक व्यावसायिक नाम चुनें
  5. एक बिज़नस स्थान चुनें
  6. परिवारजनों और दोस्तों के साथ अपने विचार साझा करें
  7. गुस्सा मत कीजिए
  8. नए Products और Services की पेशकश
  • कम पैसों में बिजनेस कैसे शुरू करें?

Small Business Ideas | कम पैसे में ज्यादा कमाई
  1. मोबाइल रिचार्ज शॉप : …
  2. फ़ोटो कॉपी शॉप : …
  3. ट्यूशन (tuition center) : …
  4. ब्यूटी पार्लर शॉप (beauty parlour shop):
  • सबसे सस्ता बिजनेस कौन सा है?

  • नाश्ते की शॉप
  • प्लांट नर्सरी बिजनेस
  • फास्ट फूड बिजनेस
  • शू वॉश लांड्री बिजनेस
  • मिनरल वॉटर सप्लायर बिजनेस
  • गांव में व्यापार कैसे करें?

गांव में शुरु करें ये 5 बिजनेस, होगा लाखों का मुनाफा
  1. केले की खेती का बिजनेस …
  2. एलोवेरा की खेती में है बहुत फायदा …
  3. कैसे करें एलोवेरा की खेती …
  4. पपीते की खेती …
  5. फूलों की खेती में है तगड़ा मुनाफा …
  6. बाजार में फैंसी फूलों की डिमांड …
  7. उन्नत खेती की तरफ बढ़ाएं कदम …
  8. गांव के लिए अन्य छोटे बिजनेस आइडिया
  • कौन से बिजनेस में ज्यादा फायदा है?

  • किराने की दुकान का बिजनेस
  • डीजे बिजनेस स्टार्ट करे
  • विडियोग्राफी और फोटोग्राफी बिजनेस
  • टेन्ट हाउस बिजनेस
  • आटा चक्की मील
  • मनिहारा की दुकान (कॉस्मेटिक स्टोर)
  • मछली पालन बिजनेस
  • नमकीन भुजिया बिजनेस
  • इंडिया में सबसे अच्छा बिजनेस कौन सा है?

Top 7 Sabse Accha Business konsa hai | दुनिया का सबसे अच्छा बिज़नेस कौन सा है
  • 4.1 1. यूट्यूब (YouTube )
  • 4.2 2. ब्लॉग्गिंग (Blogging sabse accha business)
  • 4.3 3. फ्रीलांसिंग (Freelancing sabse accha business)
  • 4.4 4. Digital Marketing–
  • 4.5 5. Home Tuter.
  • 4.6 6. Dance classes sabse accha business. …
  • 4.7 7. CCTV camera.

तो दोस्तों हम उम्मीद करते है की आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकरी बहोत पसंद आई होगी और आप में से ऐसे कई लोग होंगे जो अपना खुद का बिजनेस शरू करना चाहते होंगे तो यह लेख उनको काफी हेल्पफुल रहेगा अगर आपके मन में कोई भी सवाल हो तो आप हमें निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है । धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *