10वी के बाद Mechanical Engineering कैसे करे ?|How to Do Mechanical Engineering After 10th? – [Hindi]

दसवीं के बाद अक्सर बच्चे अपने भविष्य को लेकर सोच में पड़ जाते हैं । कि आगे क्या किया जाए।

लंबी पढ़ाई और शॉर्ट टर्म कोर्स में से किसी एक को चुनना कई बार मुश्किल हो जाता है। अगर बात शॉर्ट टर्म कोर्स की है तो 10वीं के बाद कई सारे कोर्स ऐसे हैं जो आपको अपनी पसंद के मुताबिक करियर ऑप्शन चुनने में मदद करते हैं।

साइंस फील्ड के बच्चे इंजीनियरिंग लाइन में जाने का सपना देखते हैं। ऐसे में ITI बहुत अच्छा ऑप्शन बन जाता है। तो चलिए जानते हैं कि ITI होता क्या है और इसके जरिए किस किस कोर्स में आप एडमिशन लेकर मकैनिकल इंजीनियर बन सकते हैं।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग करके आप किस किस फील्ड में नौकरी पा सकते हैं । इसके बारे में भी हम आपको अपने इस लेख में बताएंगे ।

तो बने रहें हमारे साथ अंत तक चलिए शुरू करते हैं सबसे पहले हम जानेंगे कि मकैनिकल इंजीनियरिंग किसे कहते है । 

इंजीनियरिंग के सबसे पुराने और व्यापक क्षेत्रों में से एक है मकैनिकल इंजीनियरिंग। ये क्षेत्र मशीनों के डिजाइन , निर्माण और उपयोग से जुड़ा हुआ है।

इसमें बच्चों को ये सीखने को मिलता है कि कैसे बड़े और भारी मशीन काम करते हैं। जो स्टूडेंट्स मकैनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हैं वह ऑटोमोबाइल , इलेक्ट्रिक मोटर्स , एयरक्राफ्ट और अन्य भारी वाहनों के डिजाइन के बारे में इसमें सीखते हैं।

मकैनिकल इंजीनियरिंग नई बैटरी एथलेटिक के सामान से लेकर चिकित्सा उपकरणों और पर्सनल कंप्यूटर , एयर कंडीशनर , ऑटोमोबाइल इंजन से लेकर बिजली संयंत्रों तक सबकुछ डिजाइन करते हैं।

ये इंजीनियर उन मशीनों को भी डिजाइन करते हैं जो नई नई खोजी गई है।

अब जानेंगे कि मकैनिकल इंजीनियरिंग का क्या भविष्य है। अब मशीनों का युग आ चुका है और अब भारत और विदेश में मैकेनिकल इंजीनियरिंग के लिए बहुत बड़ा मौका है।

लाइफ के हर क्षेत्र में आज मैकेनिकल इंजीनियर्स की जरूरत है। भारत में मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने के लिए कई सारे कोर्सेस उपलब्ध हैं।

सबसे अच्छा तो ये है कि स्टूडेंट्स 12वीं तक की पढ़ाई पूरी करके Btech और Mtech करे लेकिन जो बच्चे 10वीं के बाद इस लाइन में आना चाहते हैं उनके लिए भी कई सारे मौके इस लाइन में उपलब्ध है।

तो चलिए अब देखते हैं कि 10वीं के बाद मैकेनिकल इंजीनियरिंग कैसे करें ?। अगर आप मैकेनिकल इंजीनियर बनने का सपना रखते हैं और जल्दी ही कमाई शुरू करना चाहते हैं ।

तो 10वीं कक्षा के बाद कई सारे ITI कॉलेज पॉलिटेक्निक कॉलेज और इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट्स मैकेनिकल इंजीनियरिंग से जुड़े कोर्स जैसे डिप्लोमा कराती है।

10वीं के बाद इन सब जगहों पर बहुत अच्छे ऑप्शन मिल जाते हैं। अपनी रुचि के अनुसार पढ़कर अपनी पसंद के फील्ड में कदम रखने का तो ITI या पॉलिटेक्निक के अपने कॉलेज होते हैं ।

जो स्कूल पूरा करने के बाद छात्रों को आसान रोजगार दिलाने के लिए कोर्सेस कराते हैं । और प्लेसमेंट भी देते हैं।

ये वोकेशनल सेंटर होते हैं ये वोकेशनल केन्द्र छात्रों को उनकी रुचि के क्षेत्र में प्रशिक्षित करते हैं । ताकि उन्हें कोर्स खत्म होने के बाद जल्दी ही नौकरी मिल सके ।

और हम जानते हैं कि ITI पॉलिटेक्निक से मकैनिकल इंजीनियरिंग करने के बाद क्या क्या है। दुनिया में सभी लोग डॉक्टर या इंजीनियर बनने के लिए लंबी पढ़ाई नहीं कर सकते।

किसी न किसी कारण से बच्चों को लंबी पढ़ाई का रास्ता छोड़ना पड़ता है । लेकिन उसके बाद भी अगर आप एक इंजीनियर बनना चाहती है ।

तो उसके लिए डिप्लोमा या पूरी डिग्री हासिल करने की जरूरत नहीं है। ITI पॉलिटेक्निक कोर्स से छात्रों को कई तरह के फायदे होंगे जैसे आसानी से जॉब मिलना।

कम उम्र में ही अच्छी जॉब के साथ करियर सेट होना तीन या चार साल के लंबे कोर्स में लगने वाले समय से बचना पर आप जानते हैं कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने के लिए क्या क्या योग्यताएं चाहिए।

किसी भी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए जो जो योग्यताएं चाहिए होती है । उसे पास करना पड़ता है।

अगर आप जिस कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं उसकी शर्तों को पूरा नहीं कर पाई है । तो आप उस कोर्स में एडमिशन नहीं ले पाएंगे।

इसके अलावा जिस कॉलेज से आप कोर्स करना चाहते हैं उसके पास कुछ अन्य शर्ते भी हो सकती है ।

प्रवेश के लिए आवेदन करने से पहले आपको कॉलेज में कोर्स की सभी शर्तों की जांच करनी चाहिए।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के लगभग सभी कोर्सेस के लिए बुनियादी योग्यता की बात करे तो कुछ इस तरह से है।

आपकी उम्र 14 साल से अधिक और 40 साल से कम होनी चाहिए। आपने रेगुलर स्कूल से 10वीं या 8वीं पास की हो।

जिस स्कूल से आपने अपनी स्कूलिंग पूरी की है वह एक मान्यता प्राप्त शिक्षा बोर्ड के अंदर आना चाहिए। 10वीं या 8वीं में जितने भी विषय थे सभी में पास होना अनिवार्य है।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने के लिए जो कोर्स आप लेना चाहते हैं उसके लिए जो जो सब्जेक्ट जरूरी है वो आपके पास 10वीं या 8वीं में होने चाहिए ।

जैसे मैकेनिकल इंजीनियरिंग के लिए फिजिक्स , केमिस्ट्री और मैथ्स जरूरी है। इसके साथ अब आगे बढ़ते हैं तो जानते हैं कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग के किसी भी कोर्स में एडमिशन लेने का प्रोसेस क्या है।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में प्रवेश लेने के लिए हर जगह अलग अलग तरीका होता है। छात्रों को पहले से अपने पसंदीदा कॉलेज के द्वारा उपयोग की जाने वाली चयन प्रक्रिया की जांच करनी चाहिए।

पहले से चयन प्रक्रिया की अच्छी समझ हो। आमतौर पर छात्रों को चुनने के लिए निम्नलिखित विधियों का उपयोग किया जाता है।

ज्यादातर मामलों में छात्रों का चयन योग्यता के आधार पर किया जाता है। छात्रों को उनकी योग्यता मतलब कि उन्होंने कितने अंक 10वीं या 8वीं की परीक्षा में पाई है उसके आधार पर चुना जाता है।

इसके बाद कॉलेज एक कटऑफ सूची जारी कर दी है जिसमें ज्यादा नंबर वाले छात्रों को लिया जाता है।

कुछ कॉलेज छात्रों का चयन करने के लिए उनकी अलग से एक प्रवेश परीक्षा यानी एंट्रेंस लेते हैं।
आवेदकों को परीक्षा देनी पड़ती है और उनका चयन परीक्षा में आए अंक के आधार पर होता है।

छात्रों के चयन के लिए कुछ कॉलेज में इंटरव्यू भी लिए जाते हैं। अलग अलग इंस्टिट्यूट का अलग अलग तरीका होता है छात्रों के चयन का।

इसका पता आप इंस्टीटय़ूट की वेबसाइट से लगा सकते हैं।

अब आगे बात करते हैं ITI को उसके के बारे में कि ये कैसे होता है और सर्टिफिकेट कैसे मिलता है। हर संस्था का अपना बोर्ड होता है।

कई सारे कॉलेज स्टेट बोर्ड के तहत एग्जाम लेते हैं। ITI का तरीका थोड़ा अलग होता है। जिस भी कोर्स में स्टूडेंट्स ने एडमिशन लिया है ।

उसकी सारी क्लास खत्म होने के बाद उसे AITT यानी के आल इंडिया ट्रेड टेस्ट का एग्जाम देना होता है जो NCVT आने की नैशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग करवाती है।

पास करने के बाद स्टूडेंट को नेशनल ट्रेड से सर्टिफिकेट मिल जाता है जिसके बाद वो कहीं भी इस सर्टिफिकेट और अपनी योग्यता के आधार पर जॉब के लिए अप्लाई कर सकता है।

अब ये जानते हैं कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग से करने के लिए कौन से कॉलेज सबसे अच्छे हैं। भारत के हर राज्य में बहुत सारे सरकारी और प्राइवेट कॉलेज हैं जो मैकेनिकल इंजीनियरिंग कराते हैं।

यहां पर कुछ बहुत ही बढ़िया सरकारी और प्राइवेट कॉलेजेस के नाम आपको बताएंगे जहां से मैकेनिकल इंजीनियरिंग करके स्टूडेंट्स अच्छी जगह नौकरी कर सकते हैं।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग कॉलेज ।

  • गवर्मेंट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट ,पुरूलिया
  • गवर्मेंट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट ,रायबरेली
  • गवर्मेंट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट ,तिरुचि इंदौर
  • गवर्मेंट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट ,मदुराई
  • इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट मांडवी आने की ,सूरत
  • गवर्मेंट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट ,त्रिची
  • साल बोनी गवर्मेंट आइटीआइ वीर माता जीजाबाई टेक्नोलॉजिकल इंस्टीटय़ूट ,मुम्बई
  • गवर्मेंट पॉलीटेक्निक ,पूणे
  • गवर्मेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज ,औरंगाबाद
  • पूसा इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ,दिल्ली
  • श्री केजी पॉलिटेक्निक कॉलेज ,भरूच
  • ATTC आने के अडवांस्ड टेक्निकल ट्रेनिंग सेंटर ,सिक्किम
  • गवर्मेंट पॉलिटेक्निक ,राजकोट और
  • गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी।

चलिए जानते हैं कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद जॉब कैसे मिलती है। मैकेनिकल इंजीनियरिंग का कोर्स पूरा करने के बाद एग्जाम देना होता है।

पॉलिटेक्निक और ITI अलग अलग तरीके से एग्जाम लेती है। उस एग्जाम में पास होने के बाद जॉब के लिए कई सारे ऑप्शन खुल जाते हैं।

कई सारे कॉलेज का अपना प्लेसमेंट सेल होता है । जहां से वो प्राइवेट सेक्टर में जॉब पा सकते हैं। शुरुआत में सैलरी कम हो सकती है लेकिन जैसे जैसे काम का अनुभव जुड़ता जाता है वैसे वैसे उनकी सैलरी बढ़ती जाती है।

कई छात्र मैकेनिकल इंजीनियरिंग का डिप्लोमा कोर्स करने के बाद दूसरे देशों में जाकर नौकरी करते हैं।

सरकारी क्षेत्र में भी कई सारी वैकेंसीज निकलती हैं। कई सारी नौकरियों में ITI लोगों के लिए अलग से रिजर्वेशन भी होता है जिसमें आप अपनी योग्यता के आधार पर अप्लाई कर सकते हैं।

इसके अलावा ये छात्र और भी कई तरह के सेंट्रल गवर्मेंट डिपार्टमेंट ,डिफेंस आदि के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं।

तो दोस्तो उम्मीद करते हैं कि आपको मैकेनिकल इंजीनियरिंग से जुड़ी सारी जानकारियां आपको इस लेख में मिल गई होंगी।

हमारी कोशिश रहती है कि जिस भी विषय पर हम लेख बनाएं उसमें सारी जानकारी दे सकें ताकि आपको और कहीं जाने की जरूरत ना पड़े।

अगर आपसे कोई सवाल है तो प्लीज आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। हम आपके सवालों का जवाब जरूर देंगे।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो .मिलते हैं अगले लेख में नई जानकारी के साथ तब तक के लिए अपना और अपनों का ध्यान रखें । धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *