अपने पैसे कैसे बचाये | 11 Tips for Seving Money 2021|How to Save Money? In Hindi

दोस्तों स्वागत है आप सबका । मेरा नाम है पियूष और आज के इसलेख में हम आपको अपने पैसे कैसे बचाये (How to Save Money?)इसके बारेमे बताने वाले है । अगर आप भी अपना पैसे की सेविंग करना चाहते हो तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़े । 

कुछ लोग सोचते हैं कि पैसा बचाना बहुत ही आसान होता है । जबकि पाँच में से चार भारतीयों के पास महीने के अंत में कुछ भी नहीं बचता है और ना ही इनके पास कोई ऐसी सेविंग्स हैं ।

जिसे किसी एमरजेंसी में इस्तमाल कर सकें। इसलिए भले ही पैसा खर्च करना ज्यादा रोमांचक हो लेकिन आपको पैसे बचाने की प्राथमिकता देनी चाहिए और पैसे बचाने के ऐसे बहुत सारे तरीके हैं। 

जिससे आपको अपने शौक में कोई कटौती भी नहीं करनी पड़ेगी। पैसे बचाने के लिए जो सबसे मुश्किल काम है वो है पैसे बचाने की शुरुआत करना।

आज के इस लेख में हम आपको पैसे बचाने के ऐसे सिंपल और रेल्स स्टिक स्ट्रैटेजी के बारे में स्टेप बाई स्टेप बताएंगे जिससे आप अपने सभी शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म गोल्स को पूरा कर सकें ।

तो बने रहें हमारे साथ अंत तक और लेख शुरु करने से पहले हम आपका स्वागत करते है।  तो चलिए सबसे पहले जानते हैं कि पैसे बचाना इतना ज़रूरी क्यों है।

जरा सोचिए कि अगर आप अपने बच्चों की हायर एजुकेशन के लिए अगले 10 साल में 7 से 8 लाख रुपए सेव करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको आज से शुरुआत करनी होगी।

ऐसे लॉन्ग टर्म प्लान्स के लिए आपको सेविंग करनी होती है। इसके अलावा जिस तरह से इनफ्लेशन हो रहा है उससे लगता है कि आने वाले टाइम में आपको ज्यादा रुपयों की ज़रूरत होगी।

अपने जरूरी खर्चों के लिए भी परिवार में किसी तरह की इमरजेंसी आ जाए जिसमें आपको बहुत सारे रुपयों की ज़रूरत हो तो उस वक्त आपके पास खर्चे के लिए अपने रुपए होने चाहिए ताकि दूसरों से ना मांग न पढ़ें।

आपको अपनी पहली नौकरी से अपनी आखिरी नौकरी तक ये सोचना चाहिए कि आपका रिटायरमेंट हो जाएगा तब आपके हाथ में रुपए होंगे या नहीं उसके लिए आपको आज से बचत शुरु करनी चाहिए।

ऐसे ही कई सारे कारण हैं जिनके लिए आपको आज सेविंग्स शुरु करने की जरूरत है। तो चलिए जानते हैं कि आप पैसे कैसे बचा सकते हैं

1 .  अपने खर्चों को रिकॉर्ड करें । Record your expenses

पैसे बचाने की शुरुआत करने का पहला कदम ये पता लगाना है कि आप कितना खर्च करते हैं। अपने सभी खर्चों पर नजर रखें इसका मतलब है कि हर कॉफी घरेलू सामान और कैश टिप जैसे छोटे से छोटे और बड़े से बड़े खर्चों को रिकॉर्ड करें।

एक बार जब आपके पास आपका डेटा होगा तो उसे अलग अलग कैटिगरीज में बांट दें जैसे कि गैस ग्रोसरी इस पॉलिसी परसों या उसके प्रॉडक्ट्स और फिर टोटल कर लें।

अपने क्रेडिट कार्ड और बैंक स्टेटमेंट का भी इस्तेमाल करें ताकि कोई खर्च छूट न जाए। मनी सेविंग की शुरुआत करने में ये हिसाब आपकी बहुत मदद करेंगे आज तो कितने डिजिटल तरीके हैं।

अपने खर्चों को रिकॉर्ड करने के लिए आप इसके लिए किसी एक मोबाइल ऐप का इस्तमाल कर सकते हैं जिससे आपका काम और भी आसान हो जाएगा।

2 .  सेविंग्स के लिए बजट बनाएं। Budget for savings

एक बार जब आप एक महीने में कहां और कितना खर्च करते हैं । इसका अंदाजा लगा लेते हैं तो आप अपने रिकॉर्ड को ठीक कर सकते हैं और पता कर सकते हैं कि कहां कितना खर्च हो रहा है।

आपके बजट की रूपरेखा ऐसी होनी चाहिए कि आपके खर्च और आपके इनकम के बीच के अंतर को पहचाना जा सके जिससे आपको कहां कहां और कितना खर्च करना चाहिए इसकी योजना बना सकते हैं और ओवर स्पीडिंग को कम कर सकते हैं।

आप अपने बजट को 50 /20 / 30 रूल से बनाएं। अब ये 50 / 20 / 30 रूल्स क्या है। इसके अनुसार आपको अपनी इनकम का 20 पर्सेंट पहले ही निकाल देना है।

मतलब कि आपको जैसे ही सैलरी मिले उसमें से 20 प्रतिशत हिस्सा निकालकर पहले ही अलग कर दें क्योंकि अक्सर सभी ये सोचते हैं कि महीने में कितना खर्च होगा वो देख लेते हैं ।

और फिर मंथ एंड में जो बचेगा उसे सेव कर लेंगे लेकिन ऐसा कभी हो नहीं पाता है। इसलिए आपको पहले ही सेविंग अमाउंट निकाल देना है।

इसके बाद अपनी इनकम का 50 प्रतिशत आपको रखना है। अपने जरूरी खर्चों के लिए जैसे घर के खर्च बच्चों के खर्च और बाकी के लिए इसके बाद इनकम का जो हिस्सा बचता है जो कि होगा 30 प्रतिशत उसका इस्तेमाल करना है।

आपको अपने शौक के लिए इसमें वो सारी चीजें आ जाएंगी जो ज़रूरी तो हैं । लेकिन आप करना चाहते हैं इसमें से भी अगर आपके पास मंथ ऐड में कुछ बचता है तो उसे आप सेव कर सकते हैं।

3 .  सेव ऑटोमैटिकली । Save automatically

अगर आप अपनी इनकम का कुछ हिस्सा सेव करना चाहते हैं तो उसके लिए बहुत सारे तरीके हैं। आप अपने दो या दो से ज्यादा बैंक अकाउंट खोल सकते हैं जिनमें से एक में वो रुपए रख सकते हैं जो आपको फ्यूचर के लिए सेव करने हैं।

इसमें आप ऑटो सेव ऑप्शन भी रख सकते हैं । जिसमें आपके दूसरे अकाउंट से हर महीने एक फिक्स अमाउंट आपके इस अकाउंट में आ जाएंगे ।

4 .एक इमरजेंसी फंड बनाएं। Create an emergency fund.

कुछ एक्सपर्ट्स एमरजेंसी के लिए अलग से सेविंग करने के लिए कहते हैं। इनका कहना है कि आपके पास हमेशा 6 महीने के खर्च के बराबर रुपये रहने चाहिए।

अगर कोई ऐसी सिचुएशन। आती है। इसमें आपकी जॉब चली जाए या कोई मेडिकल एमरजेंसी आ जाए जिससे आप काम न कर सकें तो ऐसे में आप कर्ज लेने से बच जाएंगे क्योंकि आपके पास 6 महीने के खर्च के बराबर रुपए होंगे और 6 महीने में आप नई नौकरी ढूंढ लेंगे ।

5 . कर्ज से बचें । Avoid debt

जब बचत की बात आती है तो लोन लेना सबसे ज्यादा खतरनाक होता है। यह आपके पूरे इनकम को लूट लेता है तो जितना हो सके आपको कर्ज लेने से बचना चाहिए।

क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करें क्योंकि ये एक ऐसा लोन होता है जो बिना किसी इंटरेस्ट के मिल जाता है लेकिन इसका भुगतान भी समय पर करना होता है वरना बाकी सभी लोन से ज्यादा महंगा पड़ जाता है।

अपने क्रेडिट कार्ड का बिल समय पर भरें। यदि संभव हो तो अपनी सीमा के भीतर ही क्रेडिट कार्ड से खर्च करें।

क्योंकि जब हमें अपने जेब से खर्च नहीं करना होता है । तो कई बार हम जरूरत से ज्यादा ही खर्च कर देते हैं और अक्सर क्रेडिट कार्ड होल्डर्स के साथ ये समस्या हो जाती है तो इसका आपको ध्यान रखना होगा।

6 . 30 दिन का रूल का इस्तेमाल करें । Use a 30-day rule.

हो सकता कि आप में से कई लोगों ने थर्टी दे रूल के बारे में नहीं सुना होगा। कई लोग जो अच्छी तरह सेविंग करना जानते हैं वो इस रूल का इस्तेमाल करते हैं।

ये जानने के लिए कि जिस एक्सपेंस में वो रुपए लगाना चाहते हैं वो उनके लिए जरूरी है भी या नहीं आप इसका इस्तेमाल कर के अपने फालतू खर्चों को कम कर सकते हैं।

जब आप कोई बड़ी या महंगी चीज खरीदना चाहते हैं । तो पहले उस पर अच्छे से सोचें लिखें कि वो चीज क्या और कितने की है।

और अगर 30 दिनों के बाद भी आपको लगे कि वो चीज लेना जरूरी है तो उसे खरीद लें। इससे आप कई सारे फालतू खर्चों से बच जाओगे ।

7 . रिटायरमेंट के लिए सेविंग गोल्स बनाएं । Create saving goals for retirement.

कई सारे एक्सपर्ट्स कहते हैं कि एक स्मार्ट वर्किंग क्लास को हर महीने अपनी सैलरी से कुछ पर्सेंट निकालना चाहिए।

अपने रिटायरमेंट के लिए या तो उन रुपयों की RD कर दी जाए या म्यूचुअल फंड में डाल दिया जाए ताकि जब आप रिटायर हों तो आपके पास इतने हों कि आपको किसी और पर डिपेंडेंट होना न पड़े।

8 . क्वॉलिटी पर खर्च करें । Spend on quality

उन चीजों पर थोड़ा ज्यादा पैसा खर्च करने के बारे में सोचें जो आपको लंबे समय तक इस्तेमाल करना है।

उदाहरण के लिए हाई क्वॉलिटी वाली हाउसहोल्ड चीजें ताकि एक ही सामान पर आपको बार बार खर्च करना न पड़े।

आपको लग सकता है कि इससे कितना ही असर पड़ेगा। सेविंग्स पर। लेकिन यकीन मानिए इससे आपके बार बार एक ही समान पर होने वाले खर्चों में कटौती होगी जो कि आपकी सेविंग्स बढ़ाने में मदद करेंगे ।

9 . 24 Hour रूल का इस्तेमाल करें । Use 24 Hour rule.

ये भी 30 day रूल की तरह ही है। बस फर्क यह है की आपको इसमें थोड़ी ढील जितना लंबा टाइम नहीं लेना है क्योंकि इसमें छोटी छोटी और कम महंगी चीजों को शामिल किया जाता है।

मान लीजिए आपको कुछ लेने का मन है जिसे कोई अर्जेंट यूज नहीं है । और वो ज्यादा महंगा भी नहीं है फिर भी आप 24 घंटे का समय लें और सोचें कि इस चीज की आपको सच में कोई जरूरत है भी या नहीं।

अगर 24 घंटे बाद भी आपको उस चीज की जरूरत लगे तो आप उसे खरीद लें।

आपको लग सकता है कि इससे कुछ नहीं होता लेकिन इसी तरीके से आप फालतू खर्च कम कर सकते हैं।

10 .  No-Spend Days rule

आप खुद को और अपने परिवार को हर हफ्ते में एक दिन के लिए ये चैलेंज लेने के लिए कहें कि आज के दिन हम बाहर से कुछ भी नहीं खरीदेंगे चाहे वो आपके सुबह की कॉफी हो या फिर मूवी टिकट।

इससे आपको पता चलेगा कि कहां कितना फालतू खर्च होता था और आप कंट्रोल में खर्च करना सीख जाएंगे।

11 . बाहर का सामान कम से कम इस्तेमाल करें ।

क्या आप जानते हैं कि एक एवरेज इंसान अपने पूरी लाइफ में कितना खर्च करता है। फास्टफूड और वॉटर बॉटल पर एक एवरेज इंसान अपने 10 साल या उससे भी ज्यादा की कमाई से फास्ट फूड और वॉटर बॉटल पर खर्च करता है ।

जिससे आपकी सेविंग पर तो असर पड़ता ही है साथ ही हेल्थ भी खराब होती है। सिर्फ वॉटर बॉटल के खर्च को बचा कर आप अपने रिटायरमेंट के लिए रुपये जोड़ सकते हैं।

घर के पानी का इस्तेमाल करें अपने साथ पानी की बोतल लेकर चलें। घर का बना खाना खाएं। एक मिडिल क्लास फैमिली जितने रुपये में पूरे महीने घर पर खाना बनाकर खा सकती है उतने रुपये में बाहर सिर्फ तीन रात में ही खाया जा सकता है।

इसके अलावा और भी कई सारे छोटे छोटे तरीके हैं जिनसे आप ज्यादा से ज्यादा सेव कर सकते हैं। जैसे प्लैनेट की जगह लोकल चीजें खरीदें जो कि ज्यादा बढ़िया होती हैं क्वॉलिटी में।

इसके अलावा जेनरिक दवाइयां खरीदें क्योंकि ब्रैंड ने मेडिसिन्स और जेनेरिक मेडिसिन्स में एक जैसे इंग्रीडिएंट्स इस्तेमाल होते हैं लेकिन ब्रैंड होने की वजह से वो दोगुने या तीन गुने ज्यादा दाम में बिकते है ।

पब्लिक ट्र्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करे । ज्यादा ज्यादा से सरकारी सुविधाओं का इस्तेमाल करे । 

तो दोस्तों हमें उम्मीद है की आपको हमारा यह लेख जरूर पसंद आया होगा की अपने पैसे कैसे बचाये  और आप सेविंग कर के आपने पिसा बचा सकते है । और आपके मन में कोई भी सवाल हो तो आप हमें निचे कमेंट करके जरूर बताये । धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *